Note

RBI ने दिया एक और झटका, अब घर खरीदना होगा महंगा

रिजर्व बैंक ने घर खरीदने वालों को एक बार फिर जोरदार झटका दे डाला है. रिजर्व बैंक ने एक फिर से आज रेपो रेट में 50 बेसिक पॉइंट की वृद्धि की है. इस वृद्धि के बाद रेपो रेट 5.40 हो जाएगा. महंगाई को नियंत्रित करने के लिये इससे पहले 4 मई को ही रेपो रेट में 40 बेसिक पॉइंट और 8 जून में 50 बेसिक पॉइंट की वृद्धि की थी. लगातार हो रही रेपो रेटों में बढोतरी आम आदमी का सपना चूर-चूर कर रही है. क्योंकि पहले से महंगाई की आर झेल रहा गरीब आदमी अब घर लेने के बारे में 10 बार सोचेगा. आपको बता दें कि इस वृद्धि से फिक्स्ड डिपॉजिट पर भी ब्याज दर में बढ़ोतरी होगी, जिसका लाभ फिक्स्ड डिपॉजिट करवाने वाले ग्राहकों को मिलेगा. यही नहीं इसका असर मंथली ईएमआई पर साफ देखने को मिलेगा.

इस वृद्धि से महंगाई को काबू करने की कोशिश का क्या असर होगा ये तो समय ही बतायेगा लेकिन बैंकों से लोन लेने वाले ग्राहकों की लोन की किश्त पर इसका असर पड़ेगा और उनकी मासिक क़िस्त बढ़ जाएगी. एक बार फिर भारतीय अर्थव्यवस्था स्वाभाविक रूप से वैश्विक आर्थिक स्थिति से प्रभावित हुई है. हम उच्च मुद्रास्फीति की समस्या से जूझ रहे हैं. आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने बताया कि वर्तमान वित्तीय वर्ष के दौरान 3 अगस्त तक 13.3 अरब अमेरिकी डॉलर के बड़े पोर्टफोलियो का प्रवाह देखा है.

उन्होने बताया कि RBI ने तत्काल प्रभाव से रेपो रेट 50 BPS बढ़ाकर 5.4% कर दिया. 2022-23 के लिए रियल GDP विकास अनुमान 7.2% है जिसमें Q1- 16.2%, Q2- 6.2%, Q3 -4.1% और Q4- 4% व्यापक रूप से संतुलित जोखिमों के साथ होगा. 2023-24 के पहले तिमाही(Q1) में रियल GDP वृद्धि 6.7% अनुमानित है. उन्होने बताया कि 2022-23 में मुद्रास्फीति 6.7% रहने का अनुमान है. 2023-24 के पहले तिमाही के लिए CPI मुद्रास्फीति 5% अनुमानित है.