Safdarjung Hospital

हाथरस गैंगरेप: सफदरजंग अस्पताल में हंगामा,पीड़ित परिवार से मिलने पहुंचे कई नेता

उत्तर प्रदेश देश

यूपी के हाथरस की दुष्कर्म पीड़िता की सफदरगंज अस्पताल में मौत के बाद पूरा मामला सियासी रूप ले लिया है। मामले की सूचना मिलते ही अस्पताल परिसर में पहुंचे चंद्रशेखर के नेतृत्व में भीम आर्मी के कार्यकर्ता हंगामा करने लगे। भीम आर्मी के नेता चंद्रशेखर सफदरजंग अस्पताल परिसर में ही धरने पर बैठ गए।

मिली जानकारी के अनुसार, अभी भी अस्पताल परिसर में भीम आर्मी के कार्यकर्ता मौजूद हैं और हंगामा कर रहे हैं। बताया जा रहा है कि आर्मी के कार्यकर्ताओं ने दोनों ओर से सड़क जाम कर दी। रिंग रोड पर दोनों ओर से यातायात ठप हो गया। हालांकि अब रास्ता खुल गया है। यातायात सामान्य हो गया है।


आप और कांग्रेस नेता भी पीड़ित परिवार से मिलने पहुंचे

वहीं, आप विधायक सौरभ भारद्वाज भी मौके पर पहुंचे। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में योगी सरकार जाति विशेष के लिए काम कर रही है इसीलिए दुष्कर्म पीड़िता की FIR भी बहुत दिनों बाद दर्ज की गई। पीड़िता को दिल्ली तब लाया गया जब उसके बचने की कोई उम्मीद नहीं रही। एम्स में बेड खाली है इसके बावजूद उसे वहां भर्ती नहीं कराया गया।


उधर, पूर्व सांसद व कांग्रेस नेता उदित राज और आम आदमी पार्टी की राखी बिरला भी पीड़ित परिजनों से मिलने पहुंचे। इसके अलावा दिल्ली सरकार में मंत्री राजेंद्र पाल गौतम और पूर्व केंद्रीय मंत्री जतिन प्रसाद भी पीड़ित स्वजनों से मिलने पहुंचे।


उत्तर प्रदेश की कानून व्यवस्था को लेकर आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं दिल्ली के कैबिनेट मंत्री राजेंद्र पाल गौतम और मुख्य प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने योगी आदित्यनाथ सरकार पर निशाना साधा है। सोमवार को पार्टी मुख्यालय में पत्रकार वार्ता के दौरान भारद्वाज ने कहा कि उत्तर प्रदेश में कानून-व्यवस्था बहुत खस्ता हालत में है। उन्होंने कहा कि हाथरस में 14 सितंबर को 19 वर्षीय दलित युवती के साथ सामूहिक दुष्कर्म के बाद उसकी जीभ काट दी गई।
पीड़ित परिवार ने की सुरक्षा की मांग

वहीं, स्वजनों की मांग है कि परिवार को सुरक्षा दी जाए, राहत राशि के तौर पर 1 करोड़ रुपए और परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाए। इसके अलावा अस्पताल प्रशासन पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए किसी दूसरी जगह पोस्टमार्टम कराने की मांग की है। परिजनों का कहना है कि कोई केंद्रीय मंत्री आकर न्याय का आश्वासन दे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *