IMD ने जारी किया भारी बारिश का अलर्ट

NEWS देश मौसम राज्य

बारिशों का महीना मतलब जुलाई का महीना चल रहा है। हालांकि, पुराने लोगों के मुताबिक, उतनी बारिश नहीं हुई है, जितनी होनी चाहिए। आपको बता दें कि यह बात उत्तर भारत के कुछ राज्यों के लिए कही गई है। जहाँ एक तरफ बिहार और महाराष्ट्र में भारी बारिश से बाढ़ की नौबत है और असम में बाढ़ से लाखों लोग प्रभावित हो गए हैं। वहीं, आगामी मौसम आने वाले कुछ दिनों में कई राज्यों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है। बात दिल्ली-NCR और आसपास के इलाकों की करें तो वहां भी मौसम पिछले कई दिनों से खराब चल रहा है और कुछ इलाकों में बूंदाबांदी की भी खबर है। अब मौसम विभाग ने कुछ शहरों के लिए अलग से अलर्ट जारी कर दिया है।

भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने चेतावनी दी है कि सौराष्ट्र-कच्छ, अरुणाचल प्रदेश-असम-मेघालय में अलग-अलग स्थानों पर भारी से बहुत भारी वर्षा और हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, पूर्वी राजस्थान, उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम, गुजरात क्षेत्र, मध्य महाराष्ट्र, कोंकण और गोवा, तेलंगाना, तटीय कर्नाटक और केरल-माहे में पृथक स्थानों पर भारी वर्षा हो सकती है। इसके अलावा पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़ और दिल्ली में भी भारी बारिश का अलर्ट भी है।

वहीं, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, पूर्वी राजस्थान, बिहार, झारखंड, गांगेय पश्चिम बंगाल, असम-मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिजोरम-त्रिपुरा, केरल-माहे, तमिलनाडु-पुडुचेरी, तटीय आंध्र प्रदेश-यनम और रायलसीमा में अलग-अलग स्थानों पर गरज के साथ आंधी तूफान का अलर्ट जारी हुआ है।

उत्तर प्रदेश में कुछ स्थानों पर अगले कुछ घंटों में बारिश होने की संभावना शुक्रवार को IMD ने जताई थी। मौसम विभाग द्वारा सुबह के समय यह पूर्वानुमान लगाया गया था। मौसम विभाग ने ट्वीट किया, ‘अगले कुछ घंटों के दौरान खुर्जा, बुलंदशहर, झांगिराबाद, ग्रेटर नोएडा, गुलाटी, सियाना, और नरौरा के आसपास के क्षेत्रों में गरज के साथ बारिश होगी।’ उस दौरान IMD ने आज हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, पूर्वी राजस्थान और पश्चिम बंगाल में बारिश होने की संभावना जताई थी।

मौसम की जानकारी देने वाली संस्था स्काइमेट ने देश में बने मौसमी सिस्टम की जानकारी देते हुए बताया कि मानसून की अक्षीय रेखा इस समय जैसलमर, अजमेर, ग्वालियर, सतना, डाल्टनगंज, दिघा होते हुए बंगाल की खाड़ी के उत्तरी हिस्सों तक बनी हुई है। दक्षिणी झारखंड और इससे सटे मध्य प्रदेश पर एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बना हुआ है। दक्षिणी उत्तरी प्रदेश पर भी एक चक्रवाती सिस्टम बना हुआ है। उधर, बताया गया कि पश्चिमी तटों पर महाराष्ट्र के दक्षिणी कोंकण गोवा क्षेत्र से केरल तक एक ट्रफ बना हुआ है।…और दक्षिणी पाकिस्तान और इससे सटे भागों पर भी एक चक्रवाती हवाओं का क्षेत्र बने होने की बात कही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *