दुश्मन होशियार! इस हफ्ते आ रहा है तुम्हारा काल

NEWS Special Report टेक्नोलॉजी देश

भारत को इसी हफ्ते हवा का ‘ब्रह्मास्‍त्र’ मिलने वाला है। फ्रांस में बने सर्वाधिक घातक लड़ाकू विमान राफेल की पहली खेप इस हफ्ते भारत पहुंच रही है। खबर यह है कि चीन से तनातनी को देखते हुए राफेल को लद्दाख सेक्‍टर में तैनात किया जा सकता है। पहले 4 विमान ही आने वाले थे मगर एयरफोर्स की निवेदन पर फ्रांस ने 6 राफेल 27 जुलाई तक देने को कहा है।

दिन हो या रात, सर्दी हो या बारिश, हर मौसम में हर वक्‍त लद्दाख में भारत हमला करने की क्षमता को मजबूती दे रहा है। राफेल इसमें उसका बड़ा हथियार साबित होगा। इस लड़ाकू विमान में Meteor की बियांड विजुअल रेंज मिसाइल भी लगकर आएगी जिससे बच पाना असंभव है। आइए आपको बताते हैं भारत को राफेल लड़ाकू विमान मिलने से चीन-पाकिस्‍तान के सिर का दर्द क्‍यों बढ़ जाएगा।

राफेल की अधितकम स्पीड 2222 किमी प्रति घंटा है। भारत आने वाल 6 राफेल विमान पूर्ण रूप से कॉम्बेट रेडी पोजिशन में होंगे। जिन्हें कुछ दिनों के अंदर ही किसी भी ऑपरेशन में लगाया जा सकेगा। विमानों की पहले खेप को हरियाणा के अंबाला में तैनात किया जाएगा।

राफेल को भारतीय वायुसेना की जरूरतों के हिसाब से बनाया गया है। इसमें कोल्‍ड इंजन स्‍टार्ट की क्षमता है मतलब ठंड का इंजन पर कोई असर नहीं होगा। बफीर्ले पहाड़ों के बीच मौजूद बेस से यह जेट आसानी से उड़ान भर सकता है।

भारत को मिलने वाला राफेल विमान हवा से हवा में मार करने वाली बियांड विजुअल रेंज मिसाइल से लैस है। यह मिसाइल दुश्मन के प्लेन को बिना देखे सीधे फायर किया जा सकता है। इसमें एक्टिव रडार सीकर लगा होता है जिससे मिसाइल को किसी भी मौसम में फायर किया जा सकता है। वहीं, स्कैल्प मिसाइल या स्ट्रॉम शैडो किसी भी बंकर को आसानी से तबाह कर सकती है। इसकी रेंज लगभग 560 किमी होती है।

राफेल में बहुत ऊंचाई वाले एयरबेस से भी उड़ान भरने की क्षमता है। चीन और पाकिस्‍तान से लगी सीमा पर ठंडे मौसम में भी विमान तेजी से काम कर सकता है। मिसाइल अटैक का सामना करने के लिए विमान में खास तकनीक लगायी गयी है। राफेल एक साथ जमीन पर से दुश्मन के हमलों को ध्वस्त करने और आसमान में आक्रमण करने में सक्षम है। जरूरत पड़ने पर परमाणु हथियारों का भी इस्तेमाल कर सकता है।

भारत के पास सुखोई-30 MKI जैसा लड़ाकू विमान है जो एयरफोर्स के ऑपरेशंस में जमकर इस्‍तेमाल होता है। राफेल उससे कही ज्यादा उच्च दर्जे का फाइटर जेट है। इसकी वर्किंग कैपेसिटी SU- 30MKI से करीब डेढ़ गुना है। राफेल की रेंज 80 से 1055 किमी तक है जबकि सुखोई की 400 से 550 किमी. तक। राफेल प्रति घंटे 5 सोर्टीज लगा सकता है जबकि सुखोई की क्षमता महज 3 की है।

राफेल के आ जाने से पाकिस्‍तान और चीन हमारी हद में रहेंगे क्‍योंकि हमारी हवाई पकड़ और मजबूत हो जाएगी। पाकिस्‍तानी एयरफोर्स अभी अमेरिकन F-16 से भारत का मुकाबला करती है। राफेल के लिए उसे कम से कम 2 F-16 लगाने पड़ जाएंगे। भारत के राफेल का मुकाबला चीन के J-20s से होगा। चीन का J-20 सिंगल-सीट मल्‍टी रोल फाइटर है जो हवा से हवा, हवा से जमीन में मार करता है। सुपरसोनिक स्‍पीड से चलने वाले इस लड़ाकू विमाना की रेंज 1,200 किलोमीटर है जिसे 2,700 किलोमीटर तक बढ़ाया जा सकता है। इसकी अधिकतम स्‍पीड 2,100 किलोमीटर प्रतिघंटा है जो राफेल से कम है। चीन का दावा है कि इसके पायलट को 360 डिग्री कवरेज मिलती है।

राफेल के अलावा, भारतीय वायुसेना में पिछले कुछ सालों में अपाचे और चिनूक हेलिकॉप्टर को भी शामिल किया गया है। भारतीय वायुसेना के बेड़े में सुखोई-30 MKI, मिराज 2000, MIG-29, MIG 27, MIG-21 और जगुआर फाइटर प्लेन है जबकि हेलिकॉप्टर श्रेणी में MI-25/35, एमआई-26, MI-17, चेतक और चीता हेलिकॉप्टर हैं वहीं ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट में C-130 J, C-17 ग्लोबमास्टर, IL-76, AA-32 और बोइंग 737 जैसे प्लेन शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *