Ayodhya Ram Mandir

अयोध्या नगरी में पांच अगस्त को राममंदिर के भूमिपूजन में PM मोदी के साथ भागवत भी रहेंगे मौजूद

उत्तर प्रदेश देश धर्म

अयोध्या- रामनगरी अयोध्या में 5 अगस्त को लेकर कौतुहल चरम पर है। यहां पर 5 अगस्त को PM नरेंद्र मोदी के साथ राष्ट्रीय स्वयं सेवकसंघ (आरएसएस) प्रमुख मोहन भागवत की मौजूदगी इस तारीख को विशेष बनाएगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंदिर अयोध्या में 5 अगस्त को श्रीराम जन्मभूमि मंदिर का भूमि पूजन करने के साथ शिलान्यास भी करेंगे। इसके साथ ही सरसंघ चालक मोहन भागवत यहां पर आरएसएस के नए कार्यालय साकेत निलयम का उद्घाटन करेंगे।

अयोध्या में शायद यह पहला मौका होगा कि 2 दिग्गज एक साथ एक ही दिन रामनगरी में मौजूद होंगे। PM नरेंद्र मोदी के अयोध्या में 5 अगस्त आगमन का समय करीब 12 बजे का है। इसी समय RSS के प्रमुख मोहन भागवत भी पधारेंगे। सरसंघ चालक मोहन भागवत यहां पर करीब 30 हजार वर्गफुट के परिसर में बने संघ के कार्यालय का उद्घाटन करेंगे। वैसे तो उनका नाम भी अभी तक बनी 268 मेहमानों की सूची में है।
268 मेहमानों की बनी सूची

अयोध्या में पांच अगस्त को राममंदिर के भूमिपूजन कार्यक्रम में शामिल होने के लिए तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की ओर से 268 मेहमानों की सूची तैयार की गयी है। इनमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं संघ प्रमुख मोहन भागवत सहित मंदिर आंदोलन के शीर्ष शिल्पियों में शुमार रहे वरिष्ठ BJP नेता लालकृष्ण आडवाणी एवं मुरली मनोहर जोशी, साध्वी ऋतंभरा, मध्यप्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री उमाभारती, बजरंगदल के संस्थापक संयोजक एवं पूर्व सांसद विनय कटियार, वशिष्ठ पीठाधीश्वर एवं पूर्व सांसद डॉ. रामविलासदास वेदांती भी शामिल होंगे।

अयोध्या में 5 अगस्त को राम मंदिर के भूमि पूजन के लिए मंदिर परिसर में वीवीआइपी को ले जाने का रूट लगभग तय हो चुका है। यह गेट नंबर तीन मार्ग है, जो श्रीराम हॉस्पिटल के पास स्थित क्षीरेश्वर नाथ महादेव मंदिर से फैजाबाद शहर जाने वाले मार्ग से चंद कदम के बाद मंदिर परिसर को जाता है। बहुप्रतीक्षित राम मंदिर निर्माण के भूमि पूजन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पांच अगस्त को आना है। PM मोदी के आधिकारिक कार्यक्रम का सवाल खड़ा कर अधिकारी इसे लेकर कुछ भी बोलने को तैयार नहीं। पहले भी वीवीआइपी को मंदिर में जाने के लिए इसी रास्ते का इस्तेमाल होता रहा। करीब 650 मीटर लंबा यह यह मार्ग बनकर तैयार है। केंद्र सरकार ने सुरक्षा के लिहाज से नए मार्ग के लिए करीब एक करोड़ 17 लाख रुपया उपलब्ध कराया था। पीडब्ल्यूडी के प्रांतीय खंड ने ई- टेंडर कर निर्माण कराया है। PWD के इंजीनियरों ने जानकारी देने से बचने के लिए हाथ जोडऩे का रास्ता निकाला है। पीएम मोदी की सुरक्षा का वास्ता देकर अधिकारी भी बोलने को तैयार नहीं। जिस क्षीरेश्वर नाथ महादेव मंदिर के आगे स्थित गेट नंबर तीन वाले मार्ग से भूमि पूजन के लिए VVIP ले जाने की तैयारी है।

अयोध्या में उसी मार्ग से मंदिर निर्माण के लिए तराशे गए श्रीराम जन्मभूमि कार्यशाला से पत्थर भी जाने हैं। तराशे गए पत्थरों की ढुलाई के लिहाज से सड़क को बहुत मजबूत बताया जाता है। इंजीनियरों की मानें तो सड़क का ऐसा निर्माण किया गया है कि 10 टन ही नहीं 15 टन से ज्यादा वजन की ढुलाई करने में भी दिक्कत नहीं होगी। तराशे गए पत्थरों की ढुलाई के लिए गेट नंबर तीन से रामजन्मभूमि मार्ग पहले से ही तय होने की चर्चा है। तराशे गए पत्थर ढोने वाले ट्रक रामघाट कार्यशाला से वाया नयाघाट के रास्ते श्रीराम हॉस्पिटल होते गेट नंबर 3 से मंदिर परिसर में दाखिल होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *