school reopen news

बिहार में 4 जनवरी से खुलेंगे सभी स्कूल और कोचिंग संस्थान

देश बिहार शिक्षा

बिहार में Corona संकट के कारण बंद स्कूल और कोचिंग खोलने को लेकर नीतीश सरकार ने शुक्रवार को बड़ा फैसला लिया है। क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप (सीएमजी) की बैठक के बाद ये तय हुआ है कि 4 जनवरी से सभी स्कूलों और कोचिंग संस्थानों के सीनियर सेक्शन को खोला जाएगा। 15 दिनों की समीक्षा के बाद जूनियर क्लास खोलने के लेकर फैसला होगा। बैठक में ये तय हुआ है कि बिहार सरकार सभी छात्रों के मुफ्त में मास्क बांटेगी..


बता दें कि आज ही हम प्रमुख और पू्र्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने सरकार से स्कूल खोलने का आग्रह किया है। अपने ट्वीट में उन्होंने मुख्यमंत्री Nitish Kumar और शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी से कहा है कि स्कूल बंद होने से गरीबों के बच्चों को अधिक परेशानी है।


स्कूल खोलने पर शिक्षा मंत्री का बड़ा बयान
वहीं अगर मीडिया रिपोर्ट की माने तो शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी ने प्राइवेट स्कूल संचालकों की इस मांग को सिरे से खारिज कर दिया है कि स्कूल खोले जाने चाहिये। शिक्षा मंत्री ने कहा है कि कोरोना का नेचर बदल रहा है। अभी दिल्ली में पहले Corona संक्रमण कुछ कम हुआ और फिर उसके मामले तेजी से बढ गये। अगर ऐसे में सरकार स्कूलों में बच्चों को आने की इजाजत दे दे और कुछ हुआ तो सरकार ही जिम्मेवार मानी जायेगी।

सरकार बच्चों की जान के साथ खिलवाड़ नहीं कर सकती.इसके साथ ही उन्होंने उन प्राइवेट स्कूलों पर नाराजगी जाहिर कि जो सरकार से मुआवजे की मांग कर रहे हैं। स्कूव खोलने की बात पर उन्होंने कहा कि सरकार एक क्राइसिस मैनेजमेंट की बैठक करेगी, उसमें ये देखा जायेगा कि समस्याओं को कैसे शॉर्टआउट किया जा सकता है। बिहार में शिक्षा व्यवस्था कैसे पटरी पर आए सरकार इस पर काम करेगी।

शिक्षा विभाग का मानना है कि स्कूल व कोचिंग खोलने का निर्णय अकेले एक विभाग का नहीं है। इस मामले में राज्य क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप को निर्णय लेना है। इसके बाद ही शिक्षा विभाग स्कूल खोलने का निर्णय लेगा। शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव संजय कुमार ने बीते दिनों शिक्षा मंत्री को इस ग्रुप की बैठक बुलाने का आग्रह किया था।


बता दें कि इस साल अब तक स्कूल व कोचिंग खोले नहीं जा सके हैं। परीक्षाओं का आगामी सत्र शुरू होने वाला है। कक्षा एक से नौ तक की पिछले साल की परीक्षाएं भी नहीं हो सकी हैं। कक्षा एक से 8 तक के स्कूल बंद हैं। यही नहीं, उच्च कक्षाओं के सिलेबस को पूरा कराने की चुनौती भी है, लेकिन शिक्षा विभाग बच्चों के हक में हुई जोखिम लेने को तैयार नहीं है।

वह चाहता है कि स्कूल और कोचिंग खोलने का निर्णय सभी विभागों की सहमति से ही लिया जाये। लिहाजा प्रधान सचिव ने प्रस्ताव भेजा था। आज क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप की बैठक बुलायी गयी है। क्राइसिस मैनेजमेंट ग्रुप स्कूल और कोचिंग खोलने को लेकर निर्णय लेगी। इससे आज की हाई लेवल मीटिंग कई मायनों में काफी महत्वपूर्ण मानी जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *