US-China Conflict

अमेरिका-चीन तनाव, 72 घंटे में ह्यूस्टन में वाणिज्य दूतावास बंद करने का दिया आदेश

विदेश

वाशिंगटन- अमेरिका और चीन के बीच शुरू हुआ रार चरम पर पहुंच गया है। America ने चीन के खिलाफ कठोर कदम उठाते हुए बीजिंग को ह्यूस्टन स्थित महावाणिज्य दूतावास को 72 घंटे के अंदर बंद करने को कहा है। चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की सरकार ने कहा कि America ने ह्यूस्टन में महावाणिज्य दूतावास को बंद करने के लिए कहा है। ट्रंप प्रशासन के इस कदम से बीजिंग बुरी तरह भड़क गया है। उसके एक अधिकारी ने इस कदम को अपमानजनक और अनुचित बताया है।

चीन ने दी तीखी प्रतिक्रिया, कहा- अमेरिका का पागलपन

उधर, चीन के विदेश मंत्रालय ने America के इस कदम पर अपनी तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि यह हैरत में डालने वाला कदम है। चीन ने कहा कि यह America का पागलपन कदम है। इससे दोनों देशों के संबंध और खराब होंगे। मंत्रालय ने कहा कि यह America का एक तरफा कदम है। दुनिया की दो सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं के बीच तनाव बढ़ाने वाली इस कार्रवाई की विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता वांग वेनबिन ने निंदा की है। वांग ने आगाह किया है कि America ने अपना यह फैसला वापस नहीं लिया तो चीन भी इस पर प्रतिक्रिया देगा। चीन ने आरोप लगाया कि अमेरिकी सुरक्षा अधिकारियों ने राजनयिक कर्मचारियों और छात्रों को परेशान किया और निजी उपकरणों को जब्त कर लिया और उन्हें बिना किसी कारण के हिरासत में ले लिया।

चीनी कर्मचारियों ने गोपनीय दस्तावेजों को जलाया

उधर, ह्यूस्टन क्रानिकल ने पुलिस का हवाला देते हुए कहा है कि दूतावास बंद करने के आदेश के बाद से ही अन्दर से धुआं उठता नजर आ रहा है। मीडिया रिपोर्टो की मानें तो चीनी कर्मचारी गोपनीय दस्तावेजों को जला रहे हैं। न्यूज रिपोर्टर के वीडियो में वाणिज्य दूतावास के प्रांगण में आग के साथ कई कूड़ेदानों के आसपास के कई लोगों को दिखाया गया था। ह्यूस्टन के अग्निशामक और पुलिस ने न्यूयॉर्क पोस्ट से कहा है कि महावाणिज्य दूतावास के कार्यालय में आग लगने का जवाब दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *