शिवपाल के बड़े ऐलान से, क्या मान जाएंगे अखिलेश

elections NEWS उत्तर प्रदेश देश

उत्तर प्रदेश में चुनाव में भले समय हो लेकिन यहां पर सियासी घमासान तेज होता नजर आ रहा है। दरअसल समाजवादी पार्टी यूपी में एक बार फिर सत्ता हासिल करना चाहती है लेकिन ये इतना आसान नहीं है। दूसरी तरफ BJP भी दोबारा सत्ता में वापसी के लिए अभी तैयारी में जुट गई है। हालांकि SP भी नई रणनीति बनाने में जुटी हुई है। उधर सपा से अलग हो चुके शिवपाल यादव भी अपनी पार्टी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी को मजबूत करने में जुटे हुए है।

हालांकि शिवपाल यादव ने हाल में बलिया में बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि BJP से गठबंधन के लिए कई बार आमंत्रण मिला, लेकिन उन्होंने इसको स्वीकार नहीं किया। शिवपाल ने कहा कि उनकी पार्टी का गठबंधन सपा से ही होगा और वह त्याग करने के लिए तैयार हैं। अब देखना होगा कि शिवपाल यादव के इस बयान पर सपा क्या कदम उठाती है।

बलिया जिले के सहतवार में पत्रकारों से बातचीत में शिवपाल सिंह यादव ने कहा, कि BJP से हरगिज गठबंधन नहीं करेंगे। एक सवाल के जबाब में उन्होंने कहा कि कि सपा से गठबंधन करेंगे। राजनीति में उनका सिद्धांत है संघर्ष के साथ त्याग। वह नई सरकार बनाने के लिए त्याग करेंगे। उन्होंने कहा, कि मेरा नारा BJP को उखाड़ फेंकने के लिए गैर बीजेपीवाद का है। सभी दल इकट्ठा होकर ही BJP को हटाने में कामयाब हो सकते हैं।

हालांकि इस दौरान AIMIM नेता असदुद्दीन ओवैसी को लेकर सवाल पूछा गया है लेकिन इस पर उन्होंने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी लेकिन उन्होंने बस इतना कहा कि जब उनकी सभी दलों व नेताओं से बातचीत होगी तभी वह इस बारे में कुछ कहेंगे।

READ MORE:   बिहार कोरोना अपडेट : कोरोना कंट्रोल में नीतीश सरकार फेल? केंद्र की टीम ने संभाली कमान

पूरा विपक्ष BJP को सत्ता से बेदखल करने का दावा जरूर कर रहा है। कांग्रेस यूपी में भले ही खत्म हो गई हो लेकिन प्रियंका गांधी की उपस्थिति से देश की सबसे पुरानी पार्टी एक बार फिर यूपी में नई गाथा लिखने की कोशिशों में है। वहीं समाजवादी पार्टी भले ही कमजोर हुई हो लेकिन अखिलेश यादव को भी हल्के में नहीं लिया जा सकता है। हालांकि यह बात सच है कि मुलायम की खराब सेहत की वजह से सपा को भारी नुकसान उठाना पड़ रहा है। मुलायम अब राजनीति में उतने सक्रिय नहीं रहते हैं।

अभी हाल में नये साल के मौके पर अचानक से पार्टी कार्यालय पहुंचकर सपा में नई जान फूंकने की कोशिश जरूर की है लेकिन अब भी बड़ा सवाल है कि क्या अखिलेश यादव अपने बल पर सत्ता हासिल कर सकते हैं या फिर उनको अन्य दलों की जरूरत पड़ेगी। अखिलेश और शिवपाल की राह अलग होने से वोट भी बंटता हुआ नजर आया। ये चुनाव में देखने को मिल चुका है। मुलायम ने नये साल पर सपा की सरकार बनाने के लिए अपने कार्यकर्ताओं से खास अपील की थी लेकिन ये संभव तभी हो सकता है जब अखिलेश यादव और शिवपाल यादव एक साथ फिर नजर आये।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *