sushant case

जानिए क्या होती है विच हंटिंग

देश

सुशांत सिंह राजपूत मौत केस से जुड़े मादक पदार्थ मामले में कथित आरोपी Rhea Chakrborty इस वक्त ज्यूडिशियल कस्टडी में हैं। रिया ने बॉम्बे हाईकोर्ट में एक याचिका दायर की है। रिया ने याचिका में कहा है कि वह निर्दोष हैं और नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (Narcotics Control Bureau) इरादातन उन्हें परेशान कर रहा है। रिया ने यह भी कहा है कि वह ‘विच हंटिंग’ (Witch Hunting) यानी ‘संदिग्थ व्यक्तियों की तलाश अभियान’ का शिकार हुई हैं।


कहा है कि वह निर्दोष हैं और मादक पदार्थ नियंत्रण जान-बूझ कर उन पर और उनके परिवार पर गंभीर आरोप लगा रहा है। उन्होंने कहा कि वह विच हंट (संदिग्ध व्यक्तियों की तलाश अभियान) का शिकार हुई हैं। उच्च न्यायालय में मंगलवार को दायर जमानत याचिका में Rhea Chakrborty ने कहा है कि वह सिर्फ 28 साल की हैं और एनसीबी की जांच के अलावा, वह साथ ही साथ पुलिस और केंद्रीय एजेंसियों की 3 जांच और पैरलल मीडिया ट्रायल का सामना कर रही हैं। आइए जानते हैं आखिर क्या है विंच हंटिंग और यह किस तरह से लोगों पर असर डालती है।

क्या है ‘विच हंटिंग’
‘विच हंटिंग’ को ‘संदिग्थ व्यक्तियों की तलाश अभियान’ कहा जाता है। इसमें व्यक्ति या किसी समूह पर आरोप लगने के बाद बिना किसी ठोस सबूत के उसे आरोपी मान लेना और उसे सजा देने का प्रयास करना विच हंटिग कहलता है। हालांकि अमूमन मामलों में सजा दोष सिद्ध होने के बाद दी जाती है लेकिन इसमें लोग अपराध साबित होने से पहले ही आरोपी को दोषी मानने लगते हैं जो कि उसकी मानसिक प्रताड़ना का कारण बनता है। किसी मामले में मीडिया ट्रायल को विच हंटिंग कहा जाता रहा है लेकिन मामला आदमी का हो, तो कोई इस पर बात नहीं करता। महिला के मामले में इसे विच हंटिंग माना जाता है।

READ MORE:   बिहार का रण: अरवल में सीएम योगी बोले-नक्‍सलवाद कांग्रेस की देन


भारत में ‘विच हंटिंग’ का स्वरूप
देश में अगर विच हंटिंग के स्वरूप की बात करें तो इसमें मुख्यत: महिलाओं, जातिवादी व्यवस्था और पितृसत्ता संस्कृति को टारगेट किया जाता है। इसमें महिलाओं पर निराधार और बेबुनियाद आरोपों के जरिए उनका शोषण किया जाता है। देश में महिलाओं का ‘विच हंटिंग’ का शिकार होना आम है। उदाहरणत: देश में साल 2019 में विच हंटिंग का मामला ओडिशा में देखने को मिला था जहां गांव के कुएं में एक महिला और उसके 4 बच्चों की लाश बरामद हुई थी। गांव के लोगों ने देर रात महिला के घर पर हमला किया था जिसमें उसके पूरे परिवार की मौत हो गई। महिला और उसके बच्चों की मौत का कारण विच हंटिंग था। यानी महिला और उसके परिवार को संदेह के आधार पर मौत के घाट उतार दिया। ओडिशा पुलिस के रिकॉर्ड के मुताबिक, साल 2017 में ‘विंच हंटिंग’ के 99 मामले सामने आए थे। ऐसे ही कुछ मामले झारखंड में भी देखने को मिले हैं।

विंच हंटिंग को समझिए


संदेह के आधार पर पीड़ित का सावर्जनिक तौर पर मानसिक उत्पीड़न होता है, उसे विच हंटिंग कहा जाता है। किसी मामले में उचित जांच से पहले ही व्यक्ति या समूह को सार्वजनिक तौर पर दोषी मान लेने की यह प्रथा सामाजिक परिवेश पर नकारात्मक असर छोड़ रही है।

‘विच हंटिंग’ के ताजा मामले की बात करें तो बॉलीवुड अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती आरोपी हैं और ड्रग्स मामले में गिरफ्तार भी हैं, कोर्ट में रिया ने इस शब्द का इस्तेमाल करते हुए खुद को पीड़ित की तरह दिखाया है। दरअसल, सुशांत सिंह राजपूत केस में CBI प्रवर्तन निदेशालय और मादक पदार्थ नियंत्रण जांच में जुटे हुए हैं। जांच के दौरान ईडी ने रिया की डिलीट वॉट्सएप चैट के जरिए ड्रग्स कनेक्शन का खुलासा किया था। इसके बाद केस में एनसीबी की एंट्री हुई थी। NCB ने लगातार 3 दिन तक रिया से ड्रग्स कनेक्शन पर पूछताछ की।

READ MORE:   आईआईटी ग्लोबल समिट : भारत अपने काम करने के तरीकों में देख रहा है बड़ा बदलाव- PM मोदी

लंबी पूछताछ के बाद रिया ने ड्रग्स कनेक्शन के आरोप को स्वीकारते हुए बॉलीवुड की 25 हस्तियों के नाम गिनाए थे। इसमें अभिनेता सैफ अली खान की बेटी और अभिनेत्री सारा अली खान और रकुलप्रीत सिंह का नाम सामने आया था। रिया के इस सनसनीखेज खुलासे के बाद बॉलीवुड में बड़ी हलचल मच गई थी।

कंगना रनौत भी कर चुकी हैं इसका सामना
इधर, रिया के ड्रग्स पर खुलासे के बाद अभिनेत्री Kangana Ranaut ने ड्रग्स मामले में अपना बयान जारी कर कहा था कि अगर बॉलीवुड में नारकोटिक्स की टीम जांच करे तो कई लोगों के नाम सामने आ सकते हैं, लेकिन कंगना का यह बयान उन पर तब भारी पड़ गया जब साल 2016 में एक इंटरव्यू में अभिनेता अध्ययन सुमन ने कंगना के ड्रग्स लेने की बात कही थी। इधर, कंगना से नाराज शिवसेना के नेता सुनील प्रभु और प्रताप ने कंगना के एक्स बॉयफ्रेंड अध्ययन सुमन के पुराने इंटरव्यू के आधार पर उन्हें घेरने की तैयार की और अभिनेता के इंटरव्यू की एक कॉपी महाराष्ट्र सरकार को सौंप दी है। ठाकरे सरकार ने इस मामले में जांच के आदेश दिए हैं। राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने इस बात की पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि एक्टर अध्ययन सुमन के एक पुराने इंटरव्यू के आधार पर यह जांच कराई जाएग। उस इंटरव्यू के बाद मीडिया में कंगना के खिलाफ हुई बातों को विच हंटिंग कहा जा सकता है। अब भी कंगना पर उस साक्षात्कार को लेकर कई बार खबरें चली है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *