Oxford University COVID-19 Vaccine

ऑक्सफोर्ड की कोविड वैक्सीन का ट्रायल रुका, जानिए डब्ल्यूएचओ ने क्या कहा…

विदेश हेल्थ

ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की कोरोना वैक्सीन का ट्रायल रोक दिया गया है। ट्रायल में हिस्सा ले रहे एक ब्रिटिश वॉलंटियर के बीमार पड़ने के कारण यह कदम उठाया गया। इस बीच, विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा है कि COVID-19 Vaccine के मामले में सर्वोच्च सुरक्षा हमारी प्राथमिकता में है। ऑक्सफोर्ड के साथ मिलकर बायोफार्मास्युटिकल फर्म एस्ट्राजेनेका इस Vaccine को तैयार कर रही है।

WHO की मुख्य विज्ञानी डॉ. सौम्या स्वामीनाथन ने कहा कि हम तेजी की बात कर रहे हैं, इसका मतलब यह नहीं है कि सुरक्षा से समझौता किया जाएगा। Vaccine बनाने की प्रक्रिया में सभी नियमों का पालन किया जाना चाहिए। लोगों को दवाएं और Vaccine दिए जाने से पहले उसकी सुरक्षा की जांच होनी जरूरी है।

आपको बता दें कि पहले और दूसरे चरण में सफल रहने के बाद बैक्सीन का तीसरे चरण का ट्रायल चल रहा है। अगले साल की शुरुआत तक इसके बाजार में आने की उम्मीद की जा रही है। Vaccine के तीसरे चरण के ट्रायल में अमेरिका, ब्रिटेन, ब्राजील एवं दक्षिण अफ्रीका से करीब 30,000 वॉलंटियर जुड़े हैं। इस चारों देशों में ट्रायल रुक गया है।


जल्द ही शुरू होगा परीक्षण

एस्ट्रोजेनेका के प्रवक्ता ने कहा कि Vaccine के वैश्विक स्तर पर चल रहे ट्रायल के दौरान अपनी मानक प्रक्रिया के तहत हमने स्वतंत्र कमेटी से समीक्षा के लिए अभी परीक्षण को रोक दिया है। उन्होंने ने बताया कि विपरीत प्रभाव केवल एक ही वॉलंटियर पर दिखा है। हमारी टीम इसकी समीक्षा कर रही है, जिससे ट्रायल की टाइमलाइन पर कोई प्रभाव नहीं पड़े। हम पूरी सुरक्षा एवं तय मानकों के हिसाब से परीक्षण के लिए प्रतिबद्ध हैं। उम्मीद है कि जल्द ही परीक्षण फिर शुरू हो जाएगा।

भारत में नहीं रुका ट्रायल, डीसीजीआइ का नोटिस

वैक्सीन का भारत में परीक्षण कर रहे सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआइआइ) ने यहां ट्रायल नहीं रुकने की जानकारी दी है। इस मामले में केंद्रीय दवा नियामक ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (डीसीजीआइ) डॉ. वीजी सोमानी ने विदेश में ऑक्सफोर्ड की वैक्सीन का ट्रायल रोके जाने की जानकारी नहीं देने के मामले में एसआइआइ को कारण बताओ नोटिस भेजा है। इसमें पूछा गया है कि सुरक्षा कारणों को देखते हुए फिलहाल परीक्षण रोक क्यों नहीं दिया जाना चाहिए। इस पर प्रतिक्रिया देते हुए एसआइआइ ने डीसीजीआइ के निर्देशों का पालन करने की बात कही है, साथ ही कहा है कि अभी उसे ट्रायल रोकने का निर्देश नहीं मिला है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *