विपक्ष के राष्ट्रपति उम्मीदवार के बेटे ने ही दे दिया झटका, अपने पिता को नहीं देंगे वोट

राष्ट्रपति चुनाव के लिए विपक्ष के उम्मीदवार यशवंत सिंहा के बेटे जयंत सिंहा ने एक बड़ा बयान देते हुए, अपना वोट भाजपा की राष्ट्रपति उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू को देने का ऐलान किया है. बता दें कि जयंत सिंहा झारखंड के हजारीबाग से लोकसभा सांसद हैं. उन्होंने भाजपा के टिकट पर ही चुनाव लड़ा था. वे 2014 की मोदी कैबिनेट में मंत्री भी रह चुके थे.

ट्वीट कर किया ऐलान

जयंत सिन्हा ने ट्विटर पर अपना वीडियो बयान जारी करते हुए कहा, “विपक्ष द्वारा मेरे आदरणीय पिता जी यशवंत सिन्हा जी को राष्ट्रपति हेतु प्रत्याशी घोषित किया गया है. इस घोषणा के बाद से ही लोग और मीडिया मुझसे सवाल कर रहे हैं. मैं आप सबसे यही निवेदन करूंगा कि इस समय मुझे आप एक पुत्र के रूप में न देखें, इसे एक पारिवारिक मामला न बनाएं.

जयंत ने पिता की बजाय पार्टी के प्रति अपने दायित्वों को निभाने की बात कहते हुए आगे कहा, “मैं भाजपा का कार्यकर्ता हूं, हजारीबाग से भाजपा का सांसद हूं. मैं अपने संवैधानिक दायित्वों को समझता हूं और इसे पूरी तरह से निभाऊंगा.”

द्रौपदी मुर्मू को एनडीए उम्मीदवार बनाने के लिए पार्टी आलाकमान के प्रति आभार जताते हुए जयंत सिन्हा ने अपने अगले ट्वीट में लिखा, “द्रौपदी मुर्मू जी को एनडीए की ओर से राष्ट्रपति पद का प्रत्याशी बनाए जाने पर हार्दिक बधाई. उनका जीवन सदैव जनजातीय समाज व गरीब कल्याण हेतु समर्पित रहा है. इस निर्णय हेतु प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा का हार्दिक अभिनंदन व आभार.”

यशवंत सिंहा का रहा है भाजपा से पुराना रिश्ता

विपक्ष के संयुक्त उम्मीदवार यशवंत सिन्हा का भाजपा से गहरा और लंबा रिश्ता रहा है और उनके बेटे जयंत सिन्हा, वर्तमान में भी झारखंड के हजारीबाग से लोकसभा सांसद हैं. पिता यशवंत सिन्हा अटल बिहारी वाजपेयी की एनडीए सरकार में मंत्री रह चुके हैं तो वहीं पुत्र जयंत सिन्हा मोदी की एनडीए सरकार में मंत्री रह चुके हैं.

ऐसे में यशवंत सिन्हा को विपक्षी दलों द्वारा उम्मीदवार घोषित करने के बाद से ही यह कयास लगने लगे थे कि उनके पुत्र जयंत सिन्हा अब क्या करेंगे? क्या जयंत सिन्हा बतौर सांसद, देश के सर्वोच्च संवैधानिक पद के लिए अपने पिता को वोट देंगे या फिर अपनी पार्टी भाजपा का साथ देंगे?

इन सभी कयासों का जवाब देते हुए जयंत सिंहा ने ट्वीट करते हुए कहा कि वे, पार्टी के प्रति अपने कर्तव्यों का निर्वहन करेंगे. उन्होंने कहा मैं आप सबसे यही निवेदन करूंगा कि इस समय मुझे आप एक पुत्र के रूप में न देखें, इसे एक पारिवारिक मामला न बनाएं.