किसानों के दबाव में MLAs? सरकार बचाने की कवायद में जुटे CM खट्टर-दुष्यंत चौटाला!

NEWS देश राजनीति हरियाणा

दिल्ली की सीमाओं पर कृषि कानूनों के खिलाफ बैठे किसानों ने हरियाणा की राजनीति (Haryana Politics) में हलचल पैदा कर रखी है। किसान आंदोलन ने राज्य की मनोहर लाल खट्टर सरकार को कई मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। ऐसे में CM खट्टर और उनके उप-मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला पार्टी के वरिष्ठ नेताओं सहित आज गृहमंत्री अमित शाह से मुलाकात करने वाले हैं। ऐसे सवाल उठ रहे हैं कि क्या हरियाणा में BJP और JJP के विधायक दबाव में हैं?

दुष्यंत चौटाला, अमित शाह से मिलने से पहले दिल्ली में अपने फार्म हाउस में अपनी पार्टी JJP के विधायकों से मुलाकात करने वाले हैं। ऐसे में माना जा रहा है कि वो अपने विधायकों को विश्वास में रखने के लिए यह बैठक कर रहे हैं।

दरअसल, सोमवार को इनेलो के प्रमुख अभय चौटाला ने एक चिट्ठी लिखकर खट्टर का विरोध किया है और कहा है कि अगर 26 जनवरी तक किसानों की बात नहीं मानी जाती है तो उनकी इस चिट्ठी को ही इस्तीफा माना जाए। उन्होंने कहा था कि वो ऐसी संवेदनहीन विधानसभा में नहीं रहना चाहते। अब उनकी इस धमकी से विधायकों के बीच दबाव बन गया है।

गठबंधन के साथ पहले ही जो लोग मौजूद हैं, वो किसानों का विरोध झेल रहे हैं। बता दें कि हरियाणा की सत्ता में BJP के पास 40 सीटें, JJP के पास 10 और पांच स्वतंत्र विधायक हैं। मुसीबत इसलिए भी है क्योंकि विपक्षी पार्टी कांग्रेस के वरिष्ठ नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने सोमवार को कहा कि कांग्रेस खट्टर सरकार के खिलाफ सदन में अविश्वास प्रस्ताव लाएगी। उन्होंने अभय चौटाला का समर्थन भी किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *