किसकी जीत-किसकी हार? जानें- पांच राज्यों में किसकी सरकार?

elections REVIEWS Top News राज्य

पश्चिम बंगाल में अंतिम चरण का मतदान खत्म हो गया है। इसके बाद 2 मई को पश्चिम बंगाल के साथ ही असम, तमिलनाडु, पुडुचेरी और केरल में वोटों की गिनती होगी। नतीजों से पहले इन प्रदेशों एग्जिट पोल मुताबिक आने शुरु हो गए है। इसमें संभावित विजेताओं और पराजितों के बारे में एक मोटी तस्वीर सामने आ गई है। नतीजों की मोटी तस्वीर या खाका इसलिए कह रहे हैं क्योंकि जब यह जानना होता है कि किस ने किस उम्मीदवार और पार्टी को वोट दिया और किसको खारिज कर दिया। आइए जानते है एग्जिट पोल के मुताबिक किस राज्य में किसकी सरकार बन रही है।

पश्चिम बंगाल में ममता की फिर वापसी?
एबीपी और सी वोटर के एग्जिट पोल के मुताबिक, बंगाल की 292 विधानसभा सीटों में तृणमूल कांग्रेस को 42.1 फीसद वोट मिल रहा है। वहीं भाजपा के खाते में 39.1 फीसद वोट मिलता दिख रहा है। इसके अलावा कांग्रेस को 15.4 फीसद वोट मिल सकते हैं।

एबीपी और सी वोटर के एग्जिट पोल के मुताबिक, बंगाल की 292 विधानसभा सीटों में तृणमूल कांग्रेस को 152-164 सीटें मिलती दिख रही हैं। वहीं भाजपा के खाते में 109-121 सीटें मिल सकती हैं। इसके अलावा कांग्रेस को 14- 25 सीटें मिल सकती हैं।

टाइम्स नाउ सी-वोटर के एग्जिट पोल के मुताबिक पश्चिम बंगाल में टीएमसी की सीटें 211 से घटकर 158 हो सकती हैं मगर बहुमत मिलेगी, भाजपा 115 सीटें जीत सकती हैं। लेफ्ट-कांग्रेस की सीटें 76 से घटकर 19 रह सकती हैं।

बता दें कि पश्चिम बंगाल विधानसभा का कार्यकाल 30 मई 2021 को पूरा हो रहा है। ऐसे में 30 मई से पहले हर हाल में विधानसभा और नई सरकार के गठन की प्रकिया पूरी होनी है। पश्चिम बंगाल में कुल 294 विधानसभा सीटें हैं। पिछले 10 साल से ममता बनर्जी यहां मुख्यमंत्री हैं। भाजपा ने यहां बहुत जोर लगाया है। अब देखना है कि ममता अपना किला बचा पाती है या नहीं।

READ MORE:   यूपी में हटाए जाएंगे चाइनीज बिजली मीटर

असम में भाजपा की फिर वापसी
एबीपी और सी वोटर के एग्जिट पोल के मुताबिक, असम की 126 सीटों में भाजपा को 58-71 सीटें मिल सकती हैं जबकि कांग्रेस को 53-66 सीटें मिलती दिख रही हैं। इसके अलावा अन्य के खाते में 5 सीटें जा सकती हैं।

असम में आज तक के एग्जिट पोल की मानें राज्य की 126 सीटों में से भाजपा+ को 75 से 85 और कांग्रेस को 40-50 सीटें मिल सकती हैं। अन्य के खाते में 1-4 सीटें जा सकती हैं।

रिपब्लिक-सीएनएक्स के मुताबिक असम में एनडीए को 79, यूपीए को 45 और अन्य को 2 सीटें मिल सकती हैं। न्यूज नेशन की मानें तो भाजपा गठबंधन को 65, कांग्रेस को 49, AIUDF+ को 9 और अन्य को 3 सीटें मिल सकती हैं।

बता दें कि 126 सीटों वाली असम विधानसभा का कार्यकाल 31 मई को समाप्त हो रहा है। 2016 में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा ने राज्य में 15 साल से सत्तासीन कांग्रेस के शासन को उखाड़ फेंका था। 2016 के चुनाव में भाजपा को 86 सीटें मिलीं और सर्वानंद सोनोवाल राज्य के मुख्यमंत्री बने। इस बार कांग्रेस की अगुवाई वाली गठबंधन से भाजपा को कड़ी टक्कर मिल रही है।

केरल में यूडीएफ और एलडीएफ के बीच टक्कर
इंडिया टुडे-एक्सिस-माय-इंडिया के अनुसार यहां एलडीएफ के खाते में 47 फीसद वोट रहा, वहीं यूडीएफ के खाते में 38 फीसद और भाजपा के खाते में 12 फीसद वोट फीसद रहा। वहीं सीटों की अगर बात करें तो केरल की 140 सीटों पर एलडीएफ के खाते में 104 से 120 सीटें मिलने का अनुमान है भाजपा को शून्य से 2 सीटें मिलने का अनुमान है। वहीं अन्य के खाते में भी शून्य से दो सीटों का अनुमान लगाया जा रहा है।

READ MORE:   जम्मू कश्मीर: पाक के खिलाफ भारतीय सेना ने की जवाबी कार्रवाई, उड़ाई 5 चौकियां….

बता दें कि 140 सीटों वाली केरल विधानसभा का कार्यकाल एक जून को खत्म हो रहा है। राज्य में 2016 में हुए विधानसभा चुनाव में कम्युनिस्ट पार्टी की अगुवाई वाले गठबंधन लेफ्ट डेमोक्रेटिक फ्रंट ने 91 सीटों पर जीत हासिल की थी। पिनाराई विजयन राज्य के 12वें मुख्यमंत्री बने। कांग्रेस की अगुवाई वाला यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट दूसरे नंबर पर रहा था. इस बार भी दोनों के बीच कड़ी टक्कर है।

एबीपी और सी वोटर के एग्जिट पोल के मुताबिक, तमिलनाडु की 234 विधानसभा सीटों में कांग्रेस-डीएमके गठबंधन को पूर्ण बहुमत मिलता दिख रहा है। कांग्रेस-डीएमके गठबंधन को 46.7 फीसद वोट मिल सकता है। वहीं भाजपा+ को 35 फीसद वोट मिलने की संभावना है। अन्य के खाते में 18.3 फीसद वोट जा सकता है।

बता दें तमिलनाडु विधानसभा का कार्यकाल 24 मई को खत्म हो रहा है। 234 सीटों वाली तमिलनाडु विधानसभा के लि‍ए 2016 में हुए चुनाव में जयललिता की अगुवाई में एआईएडीएमके ने जीत हासिल की थी। जयललिता के निधन के बाद एआईएडीएमके मैदान में है। उसे डीएमके से कड़ी टक्कर मिल रही है।

शासित प्रदेश पुदुचेरी में विधानसभा का कार्यकाल आठ जून को खत्म हो रहा है। 30 सीटों वाली पुडुचेरी विधानसभा के लिए 2016 में हुए चुनाव में कांग्रेस की अगुवाई वाले यूपीए गठबंधन को जीत हासिल हुई थी। यूपीए को कुल 17 सीटों पर जीत मिली जिनमें कांग्रेस को अकेले 15 सीटें हासिल हुई थीं। हालांकि, चुनाव से पहली ही वहां सरकार गिर गई थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *