Delhi Air Pollution 2020

Delhi Pollution:केजरीवाल सरकार का बड़ा फैसला- कल से डीजल-पेट्रोल जेनरेटर पर रोक

दिल्ली देश

राजधानी दिल्ली में तेजी से बढ़ते वायु प्रदूषण पर लगाम लगाने के लिए दिल्ली प्रदूषण नियंत्रण समिति ने गुरुवार यानी 15 अक्टूबर से आवश्यक और आपातकालीन सेवाओं को छोड़कर डीजल, पेट्रोल और केरोसिन से चलने वाले Generator सेट्स के उपयोग पर रोक लगा दिया है। जेनरेटर पर यह बैन अगले आदेश तक जारी रहेगा। इस दौरान Generator चलाने की छूट सिर्फ अस्पतालों, रेलवे और आवश्यक सेवाओं को मिलेगी। इसके अलावा अगर कहीं भी इसे संचालित करता हुआ पाया गया तो उसके खिलाफ कार्रवाई होगी।

इसकी जानकारी दिल्ली Pollution Control समिति यानी डीपीसीसी ने दी। डीपीसीसी ने बताया कि राजधानी दिल्ली में आपातकालीन सेवाओं को छोड़कर 15 अक्टूबर से डीजल, पेट्रोल, केरोसिन से चलने वाले Generator पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

इससे पहले पर्यावरण संरक्षण एवं Pollution Control प्राधिकरण ने 6 अक्टूबर को Delhi NCR के शहरों से संबंधित राज्य सरकारों को यह स्पष्ट कर दिया था कि 15 अक्टूबर से 15 मार्च तक डीजल Generator पूरी तरह बंद रहेंगे। इस दौरान किसी कंपनी या अन्य जगह पर इसका इस्तेमाल प्रतिबंधित होगा।

पूरे दिल्ली-एनसीआर में लागू होगा ग्रेप
बता दें कि ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान के तहत इस बार सर्दियों में पूरे Delhi NCR में डीजल जेनरेटर बंद रहेंगे। Corona के कारण इस वर्ष ईपीसीए किसी भी आधार पर कोई छूट नहीं देगी। रअसल, इस तरह का प्रतिबंध पिछले वर्ष भी लगाया गया था, लेकिन कुछ राज्य सरकारों ने इसमें छूट देने की मांग की थी। तब तर्क यह दिया गया कि कई आवासीय कॉलोनियां और व्यावसायिक प्रतिष्ठान ऐसे हैं, जो बिजली के लिए पूरी तरह से डीजल जेनरेटर सेट पर ही निर्भर हैं। तब ईपीसीए ने इसी शर्त पर मोहलत दी थी कि 2020 की सर्दियों में कोई बहाना नहीं सुना जाएगा।
ज्यादा खतरनाक साबित हो सकता है प्रदूषण

READ MORE:   दिल्ली की तरह अब इस राज्य में फ्री बिजली देने की तैयारी

ईपीसीए सदस्यों और डॉक्टरों ने लोगों को चेताया है कि Corona संक्रमण के कारण इस साल सर्दियों में प्रदूषण ज्यादा खतरनाक साबित हो सकता है। डीजल जेनरेटर का धुआं फेफड़ों असर डालता है। ऐसे में Corona से लड़ने के लिए फेफड़ों का स्वस्थ होना जरुरी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *