Uttar Pradesh Weather

दिल्ली-एनसीआर में ठंड से काँप रहे लोग, उत्तर भारत में जारी रहेगी शीत लहर

NEWS देश मौसम राज्य

Weather News: देश के उत्तरी हिस्से में घने कोहरे और कड़ाके की सर्दी का प्रकोप है। दिल्ली-NCR में भी काफी जगहों पर कोहरा छाया रहा। पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी के बाद वहां से आने वाली ठंडी हवाओं ने दिल्ली-एनसीआर में गलन बढ़ा दी है। जम्मू-कश्मीर के ज्यादातर क्षेत्रों में बर्फ पड़ी है। हिमाचल प्रदेश में भी एक फरवरी तक मौसम शुष्क रहेगा। जम्मू-कश्मीर के रामबन जिले के बनिहाल में भारी बर्फभारी के बीच जम्मू-श्रीनगर नेशनल हाईवे पर फंसे वाहन में सवार दो लोगों की मौत हो गई। इन लोगों ने गाड़ी में ठंड से बचने के लिए हीटर लगाया गया था।

मौसम विभाग का कहना है कि 27 जनवरी तक उत्‍तरी राजस्‍थान, पंजाब, हरियाणा, चंडीगढ़, पश्चिमी उत्‍तर प्रदेश और पश्चिमी मध्‍य प्रदेश में शीतलहर का दौर रहेगा। आज से जम्‍मू कश्‍मीर से पश्चिमी विक्षोभ के उत्‍तर-पूर्व की ओर बढ़ने के कारण होगा। हिमाचल प्रदेश में अधिकतर जगहों में 3 दिनों के दौरान मिनिमम टेंपरेचर 2 से 4 डिग्री तक गिर सकता है।

दिल्ली में अगले दो-तीन दिन में न्यूनतम तापमान के चार डिग्री सेल्सियस तक गिरने का अनुमान है तथा यहां फिर शीत लहर चल सकती है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केन्द्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने बताया कि अधिकतम तापमान के लगभग 16 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना है। इस दौरान घने से बेहद घना कोहरा भी छा सकता है। उन्होंने कहा, ” बर्फ से ढके पश्चिमी हिमालय से आने वाली बफीर्ली हवाओं से तापमान के चार डिग्री सेल्सियस तक पहुंचने और शहर में अगले दो-तीन दिन तक शीत लहर चलने का अनुमान है।’

READ MORE:   शारदा चिंट फंड घोटाला मामले में IPS राजीव कुमार को बड़ी राहत, मिली अंतरिम जमानत

उत्तर प्रदेश के ज्यादातर इलाके इस वक्त जबरदस्त गलन और ठिठुरन भरी सर्दी की चपेट में हैं और ठंड से हाल-फिलहाल राहत की कोई उम्मीद भी नहीं है। चलिक मौसम केंद्र के निदेशक जे. पी. गुप्ता ने बताया कि पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी के बाद वहां से आ रही बर्फीली हवा से उत्तर भारत के मैदानी इलाकों में गलन हो रही है। राज्य के पश्चिमी हिस्सों में कुछ स्थानों पर शीतलहर चल सकती है। वहीं, पूर्वी इलाकों में कुछ जगहों पर शीतलहर के और प्रचंड रूप लेने की संभावना है।

पंजाब और हरियाणा में रविवार को न्यूनतम तापमान सामान्य से अधिक दर्ज किया गया और दोनों राज्यों में ज्यादातर स्थानों पर घना कोहरा छाया रहा जिससे दृश्यता कम रही। मौसम विज्ञान विभाग के अधिकारियों के अनुसार चंडीगढ़ में न्यूनतम तापमान 11.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। पंजाब के अमृसतर में न्यूनतम तापमान छह डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जबकि लुधियाना और पटियाला में न्यूनतम तापमान सामान्य से अधिक 8.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

पटना समेत बिहार प्रदेश के ज्यादातर जिलों में कोहरे का कहर जारी है। घने कोहरे की वजह से रात और सुबह के समय विजिबिलिटी काफी कम रहती है, जिससे आम जनजीवन प्रभावित होता है। सूबे में अगले दो दिनों तक ऐसी ही स्थिति रहेगी। झारखंड की बात करें तो वहां भी ठंड की वजह से गलन और कंपकंपी बढ़ गई है। इसके साथ ही कुछ इलाकों में बारिश के आसार भी बन रहे हैं।

मौसम विभाग ने कहा कि हिमाचल प्रदेश के कुफरी, भरमौर, केलोंग और कल्पा में बर्फबारी हुई जबकि राज्य के कुछ अन्य हिस्सों में मध्यम स्तर की बारिश हुई है। लाहौल-स्पीति का प्रशासनिक केन्द्र केलोंग राज्य का सबसे ठंडा इलाका बना हुआ है, जहां तापमान शून्य से 9.2 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया है।

READ MORE:   भविष्‍य में दिखाई देने वाले इन पांच बदलावों के लिए हो जाएं तैयार

मध्य प्रदेश में उत्तरी क्षेत्रों से आने वाली सर्द हवाओं के कारण तापमान में गिरावट होने से राज्य में अगले तीन दिन तक शीतलहर रहने की संभावना है। मौसम विभाग ने इसकी जानकारी दी । भारतीय मौसम विज्ञान विभाग कार्यालय के वरिष्ठ वैज्ञानिक पी के साहा ने रविवार को बताया कि देश के उत्तर एवं उत्तर-पूर्व इलाकों से अब मध्य प्रदेश की ओर सर्द हवाओं के आने की संभावना है।

मुंबई के तापमान में पिछले कुछ दिन से गिरावट देखने को मिल रही है। क्षेत्रीय मौसम विभाग ने मंगलवार से न्यूनतम तापमान के साथ-साथ अधिकतम तापमान गिरने की भविष्यवाणी की है। मौसम का आकलन करनेवाली निजी संस्था के प्रमुख महेश पलावत ने बताया कि उत्तर पूर्वी इलाकों से ठंडी हवा की बयार शुरू हो गई है। इसका असर मुंबई के न्यूनतम और अधिकतम तापमान पर पड़ेगा। इससे तापमान में एक से दो डिग्री सेल्सियस की गिरावट आएगी। लगभग एक सप्ताह तक तापमान में इसी तरह की गिरावट जारी रहेगी।

कश्मीर में बर्फबारी होने के बाद रविवार को ज्यादातर स्थानों पर न्यूनतम तापमान में गिरावट दर्ज की गई लेकिन सुबह बादल छंटने से धूप खिली। मौसम विभाग के अनुसार इस महीने के अंत तक मौसम शुष्क बना रहेगा। कश्मीर में इस समय 40 दिन तक चलने वाले ‘चिल्लई कलां’ का प्रकोप जारी है। कड़ाके की ठंड में इस दौरान शीतलहर चलने के साथ जलाशय और जल आपूर्ति की पाइपलाइन इत्यादि जम गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *