2030 तक एक अरब से ज्यादा लोग घोर गरीबी की ओर जा सकते हैं- UN की शोध में खुलासा

Corona Updates REVIEWS Special Report विदेश

संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) के एक नए अध्ययन में सामने आया है कि कोविड-19 (COVID-19) महामारी के गंभीर दीर्घकालिक परिणामों के चलते 2030 तक 20 करोड़ 70 लाख और लोग घोर गरीबी की ओर जा सकते हैं और अगर ऐसा हुआ तो दुनिया भर में बेहद गरीब लोगों की संख्या एक अरब के पार हो जाएगी। अध्ययन में COVID-19 से उबरने के विभिन्न परिदृश्यों के कारण सतत विकास लक्ष्यों (SDG) पर पड़ने वाले असर और महामारी की वजह से अगले दशक तक पड़ने वाले बहुआयामी प्रभावों का आकलन किया गया।

अध्ययन के मुताबिक, ‘‘COVID-19 महामारी के गंभीर दीर्घकालिक परिणामों के चलते वर्ष 2030 तक 20 करोड़ 70 लाख और लोग घोर गरीबी की ओर जा सकते हैं। अगर ऐसा हुआ तो दुनिया भर में बेहद गरीब लोगों की संख्या एक अरब के पार हो जाएगी।” यह अध्ययन UNDP और डेनवर विश्वविद्यालय में ‘पारडी सेंटर फॉर इंटरनेशनल फ्यूचर्स’ के बीच लंबे समय से चली आ रही साझेदारी का हिस्सा है।

वर्तमान मृत्यु दर और अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (IMF) के हालिया वृद्धि दर अनुमान के आधार पर ‘बेसलाइन कोविड’ परिदृश्य यह होगा कि महामारी के पहले दुनिया जिस विकास पथ पर थी, उसकी तुलना में चार करोड़ 40 लाख अतिरिक्त लोग 2030 तक घोर गरीबी की चपेट में आ जाएंगे। इसमें कहा गया है कि ‘हाई डैमेज’ परिदृश्य के तहत COVID-19 के चलते वर्ष 2030 तक 20 करोड़ 70 लाख और लोग घोर गरीबी की ओर जा सकते हैं। UNDP के प्रशासक अचिम स्टीनर ने कहा कि नया गरीबी शोध यह दिखा है कि इस वक्त नेता जो विकल्प चुनेंगे, वे दुनिया को अलग-अलग दिशाओं में ले जा सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *