Health News

यदि रोज गर्म पानी से नहाते हैं तो हो जाएं सावधान!

जीवन शैली देश हेल्थ

नहाने के दौरान कई लोग जहां Cold Water यूज करते हैं, तो वहीं बहुत से लोग ऐसे भी हैं जो बारह महीने गर्म पानी से नहाना ही पसंद करते हैं। आमतौर पर गर्म पानी से नहाने वाले लोगों के लिए Cold Water से नहाकर दिन की शुरुआत करना काफी मुश्किलभरा होता है। अगर आप भी उनमें से हैं तो गर्म पानी से नहाने की अपनी आदत को जल्द ही बदल दीजिए। हाल ही में हुई स्टडी में सामने आया है कि ठंडे पानी से नहाने वाले लोगों (Cold Water Bathing) में गर्म पानी से नहाने वाले लोगों की तुलना में ज्यादा प्रतिरोधक क्षमता होती है। स्टडी में ये भी बताया गया है कि ठंडे पानी से नहाने वाले लोग अपेक्षाकृत कम बीमार पड़ते हैं। कहते हैं कि ठंडे पानी से नहाने से शारीरिक और मानसिक लाभ भी होते हैं।

ब्रिटेन की हर्टफोर्डशायर यूनिवर्सिटी में रीडर इन एक्सरजाइज एंड हेल्थ साइकोलॉजी की लिंडे बॉटम्स हैटफील्ड कहती हैं कि नीदरलैंड में की गई एक स्टडी में पाया गया कि Cold Water से नहाने वाले लोगों ने गर्म पानी से नहाने वाले लोगों की तुलना में बीमारी के चलते कम छुट्टियां लीं। यह स्टडी 3 हजार लोगों पर की गई। सभी को चार समूहों में बांटा गया था। एक समूह को जहां हर रोज गर्म पानी से नहाने के लिए कहा गया, वहीं दूसरे समूह को 30 सेकंड के लिए Cold Water से नहाने के लिए कहा गया। तीसरे समूह को 60 सेकंड और चौथे समूह को 90 सेकंड के लिए ठंडे पानी से नहाने को कहा गया. सभी से एक महीने तक ऐसा करने को कहा गया।

READ MORE:   अब गोंडा में मंदिर के पुजारी को मारी गोली,जमीनी विवाद को लेकर हमला

स्टडी में ये पाया गया कि जिस समूह ने Cold Water से नहाया था, उनके बीमारी की वजह से काम से छुट्टी लेने के मामलों में 29 प्रतिशत की कमी आई। दिलचस्प बात यह है कि ठंडे पानी से नहाने के दौरान समय में कोई अंतर नहीं पड़ा। हालांकि Cold Water से नहाने वाले लोगों के कम बीमार पड़ने का कारण अभी स्पष्ट नहीं है, लेकिन कुछ रिसर्चर्स का मानना है कि इसकी वजह रोग प्रतिरोधी क्षमता का बढ़ना हो सकता है।
चेक गणराज्य की एक स्टडी में बताया गया कि जब युवा एथलीटों को 6 सप्ताह के लिए हर सप्ताह 3 बार Cold Water से नहलाया गया तो इससे उनकी प्रतिरोधी क्षमता में थोड़ा सुधार हुआ। वैसे, इस बात की पुष्टि के लिए अभी और स्टडीज़ की जरुरत है।


ठंडे पानी से नहाने से बढ़ता है नॉरएड्रेनालाइन हार्मोन
जब ठंडे पानी से नहाने जैसी गतिविधियों से तंत्रिका तंत्र सक्रिय होता है, तो नॉरएड्रेनालाइन हार्मोन में वृद्धि होती है। जब लोग Cold Water से नहाते हैं, तो हृदय गति और रक्तचाप में वृद्धि का सबसे बड़ा कारण यही हार्मोन होता है। ठंडे पानी से नहाने पर ब्लड सर्कुलेशन में भी सुधार के संकेत मिलते हैं। Cold Water के संपर्क में आने से स्किन के ब्लड सर्कुलेशन में भी सुधार होता है। एक्सरसाइज के बाद Cold Water से नहाने को लेकर की गई स्टडी में सामने आया है कि इससे 4 हफ्ते बाद मांसपेशियों के ब्लड सर्कुलेशन में सुधार हुआ।

स्टडी में पाया गया कि 14 डिग्री सेल्सियस तापमान वाले Cold Water से नहाने से चयापचय में 350 प्रतिशत की बढ़ोतरी होती है। शारीरिक फायदों के अलावा Cold Water से नहाने से मेंटल हेल्थ को भी फायदा हो सकता है। हालांकि ठंडे जल से स्नान आरंभ करने से पहले आपको पता होना चाहिए कि इसके कुछ जोखिम भी हैं। दरअसल अचानक पड़ने वाला ठंडा पानी शरीर को एक झटका सा महसूस कराता है और यह दिल के मरीजों के लिए खतरनाक हो सकता है। इससे दिल का दौरा भी पड़ सकता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *