बिहार का रण: जदयू पर अब सीधे हमलावार हुए चिराग, अलग रास्ते का दिया संकेत

elections NEWS देश बिहार

LJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान के अंदाज से NDA में हैरानी है। जिस तल्खी से लगातार 2 दिनों से वह CM नीतीश कुमार और JDU को निशाने पर लेकर लिखा-पढ़ी में सक्रिय हैैं, उससे इस बात को बल मिल रहा कि वह अलग रास्ते की ओर देख रहे हैं।

बिहार में पूर्ण शराबबंदी CM नीतीश कुमार को बड़ी उपलब्धियों में जानी जाती है। कई फोरम पर सरकार के इस सामाजिक सुधार अभियान की चर्चा CM ने स्वयं की है। यहां तक कि PM नरेंद्र मोदी ने भी इसकी तारीफ की। सरकार के स्तर पर यह अध्ययन भी कराया गया कि पूर्ण शराबबंदी लागू होने से किस तरह का आर्थिक बदलाव आया। किस तरह से दूध और मिठाइयों की बिक्री बढ़ी और गांवों का माहौल किस तरह से बदला। वहीं चिराग पासवान ने शुक्रवार को एक उदाहरण के साथ CM नीतीश कुमार को यह पत्र लिख दिया कि बिहार में पूर्ण शराबबंदी के दावे पर सवाल है।

चिराग के संसदीय क्षेत्र जमुई के रहने वाले एक व्यक्ति (वार्ड पार्षद संजय यादव) का पिछले दिनों वीडियो वायरल हुआ था। उक्त वीडियो में वह व्यक्ति केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान और LJP के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान के खिलाफ अभद्र टिप्पणी कर रहा था। धमकी की बात भी थी। चिराग ने CM को जो पत्र लिखा है, उसमें उन्होंने यह कह दिया कि वायरल वीडियो जिस व्यक्ति का है, उसने शराब पी रखी थी। इसका मतलब है कि बिहार में पूर्ण शराबबंदी का दावा बेमानी है। CM को उन्होंने यह नसीहत भी दे डाली कि इसकी जांच कराएं। इसी व्यक्ति के वीडियो को ले 2 दिन पूर्व भी चिराग ने सरकार को कठघरे में खड़ा करते हुए CM को पत्र लिख डाला था। यह आरोप था कि उक्त व्यक्ति को जनवितरण प्रणाली का लाभ नहीं मिला, इसलिए वह परेशान था। नसीहत देते हुए लिखा कि यह जिम्मा राज्य सरकार का है कि सभी जरूरतमंद लोगों को जनवितरण प्रणाली की दुकान से राशन मिले।

विधानसभा चुनाव को लेकर JDU का यह घोषित स्टेंड है कि चुनाव होना चाहिए। BJP की भी सहमति रही है। दोनों दलों ने वर्चुअल सम्मेलन भी किए। वहीं NDA के इन दोनों बड़े दलों से उलट चिराग ने विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव के स्टेंड के साथ अपने को जोड़ लिया। पहले भी उन्होंने चुनाव नहीं कराने की बात कही थी। शुक्रवार को काफी ठोक-बजा कर उनके दल ने चुनाव आयोग को यह लिखित रूप से भेज दिया कि बिहार में अक्टूबर-नवंबर में चुनाव कराना लोगों को मौत के मुंह में ढकेलने की तरह है। उन्होंने तेजस्वी के उस स्टेंड को भी आगे बढ़ाया, जिसमें यह कहा गया है कि वर्चुअल तरीके से चुनाव प्रचार के पक्ष में उनकी पार्टी नहीं है।

चिराग पासवान ने अपनी ‘बिहार फर्स्ट-बिहारी फर्स्ट यात्रा के दौरान काफी तल्ख टिप्पणी की थी। यहां तक कह दिया था कि सूबे के अस्पतालों में कोई रहता नहीं और कुछ भी उपलब्ध नहीं। सरकार के खिलाफ हड़ताल कर रहे नियोजित शिक्षकों के समर्थन में आ गए थे। JDU द्वारा आपत्ति जताने के बाद कुछ दिन वह शांत रहे। बीच में एक इलाके में चचरी पुल से संबंधित वीडियो के साथ सरकार पर तंज कर दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *