Alliance With Samajwadi Party

बीएसपी के सात बागी विधायक सस्पेंड,देंगे जैसे को तैसा जवाब, चाहे बीजेपी को देना पड़े वोट

उत्तर प्रदेश देश

बहुजन समाज पार्टी की मुखिया Mayawati ने 2019 के लोकसभा चुनाव में समाजवादी पार्टी से गठबंधन को अपनी बड़ी भूल बताया है। Mayawati ने गुरुवार को मीडिया संदेश में कहा कि 2019 लोकसभा चुनाव में Samajwadi Party से हमारा गठबंधन जल्दबाजी में लिया गया फैसला था, जिसके अपेक्षित परिणाम नहीं मिल सके। Samajwadi Party भरोसा करने लायक नहीं है।

मायावती ने कहा कि हमको किसी भी कीमत पर Samajwadi Party से गठबंधन नहीं करना चाहिए था। हमने बाद में अपनी इस बड़ी गलती का एहसास किया। हमारी पार्टी ने बीते लोकसभा चुनाव के दौरान सांप्रदायिक ताकतों से लडऩे के लिए Samajwadi Party के साथ हाथ मिलाया था। इसका परिणाम अच्छा नहीं रहा। Samajwadi Party अपने परिवार की लड़ाई के कारण बहुजन समाज पार्टी के साथ उस गठबंधन से अधिक लाभ नहीं ले सके। हम भी उतने लाभ में नहीं रहे। लोकसभा चुनाव के बाद तो समाजवादी पार्टी के नेताओं ने हमसे संवाद ही बंद कर दिया, जैसे हमको जानते ही नहीं होंगे। उनके इस रवैये के कारण हमने भी उनसे संबंध का पटाक्षेप कर दिया।


मायावती ने कहा कि लोकसभा चुनाव में NDA को सत्ता में आने से रोकने के लिए हमारी पार्टी ने उस Samajwadi Party के साथ हाथ मिलाया, जिसने अपनी सरकार के कार्यकाल में मेरी हत्या का षडयंत्र किया था। उस बड़े षड्यंत्र की घटना को भूलाते हुए हमने देश में संकीर्ण ताकतों को कमजोर करने के लिए सपा के साथ गठबंधन करके लोकसभा चुनाव लड़ा था। Samajwadi Party के मुखिया अखिलेश यादव तो गठबंधन होने के पहले दिन से ही हमारी पार्टी के सतीशचंद्र मिश्रा से यह कहते रहे कि अब तो गठबंधन हो गया है तो बहनजी को 2 जून के मामले को भूला कर केस वापस ले लेना चाहिए। इसी कारण हमको चुनाव के दौरान केस वापस लेना पड़ा।


Mayawati ने स्पष्ट कहा है कि प्रदेश में आने वाले विधान परिषद के चुनाव में हम Samajwadi Party के प्रत्याशियों को बुरी तरह हराएंगे। इसके लिए हम तो अपनी पूरी ताकत झोंक देंगे। इसके लिए अगर हमें BJP या किसी अन्य पार्टी के प्रत्याशी को अपना वोट देना पड़े तो हम वो भी करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *