Tejashwi comments on Minister Pramod Kumar

तेजस्वी यादव के विधानसभा क्षेत्र के मंसूरपुर गांव में 30 दिनों में 17 लोगों की मौत! मामले की होगी जांच

NEWS देश बिहार

बिदुपुर प्रखंड अंतर्गत चक सिकंदर कल्याणपुर पंचायत के मंसूरपुर गांव में 1 महीने के अंदर 17 लोगों की मौत का मामला प्रकाश में आया है जिससे गांव में दहशत में है. यही नहीं इस घटना से भयभीत होकर गांव के दो परिवार पलायन करने को मजबूर हो गए हैं. स्थानीय महिला मुखिया के पति मुजाहिद अनवर का दावा है कि कोरोना संक्रमित होने से सभी की मौत हुई, लेकिन इस स्थिति के बाद भी न तो प्रशासन की ओर से कोई सुध ली गई और न ही कोई जनप्रतिनिधि हालचाल पूछने आया.

बकौल मुजाहिद अनवर स्वास्थ्य विभाग की ओर से जांच की सही व्यवस्था नहीं की गई और गरीबी के कारण लोग अपनी जांच नहीं करवा पाए, जिसके बाद लोगों की मौतें हुईं. उन्हों ने बताया यह इलाका राघोपुर विधानसभा के अंतर्गत आता है, लेकिन यहां के विधायक और प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव भी चुप्पी साथ रखे हैं. उन्होंने कभी भी संकट की घड़ी में लोगों का हाल-चाल नहीं लिया. मुखिया पति ने कहा कि केवल वोट लेने के लिए जनप्रतिनिधि इलाके में लोगों के पास आते हैं लेकिन जब इलाके के लोगों को मुसीबत आती है तो लोग सुधि नहीं लेते.

इधर मामला प्रकाश में आने के बाद स्वास्थ्य विभाग नींद से जागा है. इस मामले में सिविल सर्जन वैशाली इंद्रदेव रंजन ने बताया कि इस मामले को लेकर मेडिकल टीम का गठन किया गया है, जो जांच कर रिपोर्ट सौंपेगी. उन्होंने कहा कि पूरे मामले की गहराई से तहकीकात की जाएगी और यह पता लगाया जाएगा कि दावा सही या फिर झूठा. यह भी पता लगाया जाएगा कि अगर मौतें हुईं हैं तो वह कोरोना से हुईं या किसी अन्य वजहों से. बहरहाल मंसूरपुर गांव में एक साथ 17 लोगों की मौत ने सरकार की स्वास्थ्य व्यवस्था पर सवाल खड़ा कर दिया है वही जनप्रतिनिधियों की बेरुखी से लोगों में भारी नाराजगी देखी जा रही है.

READ MORE:   जानिए सेरोलॉजिकल टेस्ट क्या है? वायरस से क्या है कनेक्शन?

बता दें कि जन अधिकार पार्टी के प्रमुख पप्पू यादव ने मंसूरपुर में इतनी मौतें होने के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर भी निशाना साधा है. उन्होंने ट्वीट कर लिखा- सीएम साहब आप जब ईद की मुबारकबाद दे रहे थे तो वैशाली जिले के राघोपुर विधानसभा क्षेत्र का मंसूरपुर गांव कब्रिस्तान बन रहा था. कोरोना से 17 लोग मर गए. आपका कोई नुमाइंदा न इस गांव में गया, न तो कोरोना टेस्टिंग हुई, न ही गांव में सैनिजेशन चल रहा, न इलाज हुआ, न कोई टीका लगाने के लिए आया.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *