rahul questions RSS AND BJP ON NARI SHAKTI

राहुल ने BJP को बताया हिंदू विरोधी पार्टी, कहा- लक्ष्मी और दुर्गा शक्ति पर किया आक्रमण

VIEWS देश राजनीति

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Congress leader Rahul Gandhi) ने बुधवार को राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) (RSS) और भाजपा (BJP) पर आरोप लगाया कि ये लोग हिंदू नहीं हैं, ये सिर्फ हिंदू धर्म का इस्तेमाल करते हैं. उन्होंने कांग्रेस की महिला इकाई ‘अखिल भारतीय महिला कांग्रेस’ के स्थापना दिवस समारोह में यह दावा भी किया कि RSS एवं BJP के लोग ‘महिला शक्ति’ को दबा रहे हैं और भय का माहौल पैदा कर रहे हैं. राहुल गांधी ने नोटबंदी और GST का उल्लेख करते हुए कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार ने ‘लक्ष्मी की शक्ति’ और ‘दुर्गा की शक्ति’ पर आक्रमण किया है.

उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘वे (RSS और BJP) अपने आपको हिंदू पार्टी कहते हैं और लक्ष्मी जी और मां दुर्गा पर आक्रमण करते हैं. फिर कहते हैं कि वे हिंदू हैं. ये लोग झूठे हिंदू हैं. ये लोग हिंदू नहीं हैं. ये हिंदू धर्म का इस्तेमाल करते हैं.’’ कांग्रेस नेता के मुताबिक, BJP और RSS के लोगों ने पूरे देश में डर फैलाया है, किसान डरे हुए हैं, महिलाएं डरी हुई हैं. उन्होंने कहा कि RSS महिला शक्ति को दबाता है, लेकिन कांग्रेस का संगठन महिला शक्ति को समान मंच देता है.

राहुल गांधी ने कहा कि लक्ष्मी की शक्ति रोज़गार है, दुर्गा की शक्ति निडरता है, सरस्वती की शक्ति ज्ञान है, BJP जनता से ये शक्तियां छीनने में लगी है. राहुल ने कहा कि यह हमारा संकल्प है कि ये शक्तियां जनता तक पहुंचाने की लड़ाई लड़ेंगे.

राहुल गांधी ने कहा, ‘‘अगर पिछले 100-200 साल में किसी एक व्यक्ति ने हिंदू धर्म को सबसे अच्छे तरीके से समझा और अपने व्यवहार में लाया, तो वह महात्मा गांधी हैं. इसे हम भी मानते हैं और RSS एवं BJP के लोग भी मानते हैं… महात्मा गांधी ने अहिंसा को सबसे अच्छे तरीके से जिया. हिंदू धर्म की बुनियाद अहिंसा है. इसके बावजूद आरएसएस की विचारधारा द्वारा महात्मा गांधी को गोली क्यों मारी गई? इस बारे में आपको सोचना होगा.’’

READ MORE:   भारतीय क्रिकेटर माधव आप्टे का निधन

उन्होंने कहा कि वह आरएसएस और भाजपा की विचारधारा के साथ कभी समझौता नहीं कर सकते. राहुल गांधी ने जोर देकर कहा, ‘‘देश में RSS और BJP की सरकार है. इनकी विचारधारा और हमारी विचारधारा अलग अलग हैं. कांग्रेस की विचारधारा गांधी की विचारधारा है. गोडसे और सावरकर की विचारधारा और हमारी विचारधारा में क्या फर्क है, इसे हमें समझना होगा… हमें इनके खिलाफ प्रेम से लड़ना है. नफरत के जरिये हम नहीं लड़ सकते.’’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *