इफ्तार, जातिगत जनगणना और 72 घंटे का अल्टीमेटम, क्या कर रहे हैं नीतीश बाबू

बिहार में इन दिनों कयासों का दौर है, चर्चाएं CM नीतीश कुमार को लेकर है। असल में पिछले एक महीने में नीतीश कुमार ने कई ऐसे चौंकाने वाले कदम उठाएं है। जिससे यह सवाल उठने लाजमी हैं कि नीतीश कुमार क्या करने वाले हैं। इसकी शुरूआत रमजान के दिनों से हुई है। जब CM नीतीश कुमार, इफ्तार पार्टी में करीब 5 साल बाद राबड़ी देवी के घर पहुंचे। इसके बाद जातिगत जनगणना, राज्य सभा सदस्यों के नामांकन को लेकर बिहार की राजनीति में हलचल पैदा कर दी है।

RJD नीतीश पर डाल रही है डोरे ?

जब से 2020 में NDA की सरकार बनी है, उसी वक्त से नीतीश कुमार को RJD के नेता तेजस्वी यादव किसी न किसी बहाने अपने पाले में लाने की कोशिश करते रहे हैं। इसके लिए वह राजनीतिक ताने के साथ-साथ पुरानी दोस्ती का हवाला देते रहे। शुरूआत इस बात को लेकर हुई कि अब नीतीश कुमार बिहार में बड़े भाई नहीं रह गए हैं। और BJP सबसे बड़े दल होने के बावजूद नीतीश को CM बनाकर उन्हें कमजोर कर रही है। असल में 2020 के विधानसभा चुनावों में पहली बार हुआ कि जनता दल (यू ) को BJP से कम सीटें मिली थी । BJP को 74 सीट और जनता दल (यू) को 43 सीटें मिली थीं। इसी वजह से RJD हमेशा से नीतीश कुमार को BJP का साथ छोड़ने को कहती रही है। और जनता के बीच ऐसा परसेप्शन बनाने की कोशिश करती रही है कि नीतीश कुमार BJP से परेशान हैं और वह कभी भी BJP का साथ छोड़ सकते हैं। इस कयास को BJP के दूसरी पंक्ति के नेताओं के बयानों ने भी बल दिया है। जो बार-बार यह अहसास कराने की कोशिश करते रहे हैं कि नीतीश की सरकार, उनके भरोसे हैं।

nitish-kumar-backdoor-politics-in-bihar-explained-the-iftar-and-caste-census

हाल के दिनों में नीतीश कुमार जिस तरह इफ्तार के बहाने करीब 5 साल बाद राबड़ी देवी के घर पहुंचे तो उसके बाद यह कयास लगाए जाने लगे हैं कि क्या BJP के दबाव से परेशान नीतीश फिर से राजद का हाथ थाम सकते हैं। हालांकि इस तरह की कयासों को नीतीश हमेशा से नकारते रहे हैं। लेकिन इफ्तार के बहाने जिस तरह नीतीश पहले राबड़ी और फिर जद (यू) के इफ्तार पर तेजस्वी से मिले उससे कयासों को बल मिला है। और इस दौरान सूत्रों के अनुसार नीतीश कुमार ने अपने विधायकों को 72 घंटे तक पटना में रहने के निर्देश दिए हैं।

जातिगत जनगणना लाई करीब

बिहार की राजनीति में इस समय जातिगत जनगणना भी वोटरों के बीच पैठ बनाने के लिए चर्चा का विषय है। इसीलिए तेजस्वी इस पर खूब राजनीति कर रहे हैं। और वोटरों में गलत संदेश न जाय, इस कारण नीतीश कुमार भी फूंक-फूंक कदम रख रहे हैं। इन्ही चर्चाओं के बीच नीतीश कुमार ने 27 मई को जातिगत जनगणना पर सर्वदलीय बैठक बुला दी है। इसके पहले पिछले साल नीतीश और तेजस्वी एक साथ जातिगत जनगणना को लेकर दिल्ली भी पहुंचे थे। नीतीश का रूख भाजपा के लिए बेचैन करने वाला हैं क्योंकि BJP ने जातिगत जनगणना का अभी खुल कर समर्थन नहीं किया है। इस बीच राज्यसभा चुनावों को लेकर भी भाजपा और नीतीश के बीच सब कुछ सामान्य नहीं होने की सामने आ रही है। बिहार से 5 राज्यसभा सदस्यों का कार्यकाल समाप्त हो रहा है। साफ है कि बिहार की राजनीति में बहुत कुछ पक रहा है, जिसका खुलासा जल्द हो सकता है।

India beat new Zealand 3-0. भारत ने किया कीवियों का सूपड़ा साफ, बने नम्बर 1 Kisi Ka Bhai Kisi Ki Jaan | शाहरुख की पठान के साथ सलमान के टीजर की टक्कर, पोस्टर रिवील 200करोड़ की ठगी के आरोपी सुकेश ने जैकलीन के बाद नूरा फतेही को बताया गर्लफ्रैंड, दिए महँगे गिफ्ट #noorafatehi #jaqlein #sukesh क्या कीवी का होगा सूपड़ा साफ? Team India for third ODI against New Zealand #indiancricketteam KL Rahul Athiya Wedding: Alia, Neha, Vikrant के बाद राहुल अथिया ने की बिना तामझाम के शादी