ammunition for 15 day

चीन-पाक एक साथ युद्ध के फिराक में,15 दिन के महायुद्ध की तैयारी में जुटी सेना

NEWS Top News

चीन से तनाव के बीच भारत ने एक और अहम कदम उठाते हुए सुरक्षाबलों को स्टॉकिंग में इजाफा करते हुए 15 दिनों के भयंकर War के लिए हथियार और गोलाबारूद जुटाने के लिए अधिकृत किया है। पूर्वी लद्दाख में China के साथ मौजूदा टकराव को देखते हुए स्टॉकिंग में इजाफे और इमर्जेंसी फाइनेंशल पावर्स के इस्तेमाल से सेनाएं हथियारों और गोलाबारूद की खरीद पर 50 हजार करोड़ रुपए खर्ज कर सकती हैं। इनमें देश और विदेश से खरीद शामिल है।

हथियार और गोलबारूद के स्टॉक को पहले के 10 दिन से बढ़ाकर 15 दिन किए जाना काफी अहम है और माना जा रहा है कि सुरक्षाबलों को चीन-पाक के संभावित ‘टू-फ्रंट वॉर’ के लिए तैयार किया जा रहा है। सूत्रों के अनुसार, ” दुश्मनों से 15 दिन के प्रचंड युद्ध के लिए रिजर्व रखने की मंजूरी के तहत कई हथियार और गोलाबारूद खरीदे जा रहे हैं। अब 15 दिनों के भंयकर War के लिए स्टॉकिंग होगी, जबकि पहले 10 दिन की तैयारी थी।”

बताया गया है कि सेनाओं के लिए स्टॉकिंग में इजाफे को मंजूरी कुछ समय पहले ही दी गई है। कई सालों पहले दी गई मंजूरी के मुताबिक, सेनाओं के लिए 40 दिन के भयंकर War के लिए Stock जुटाने की बात कही गई थी, लेकिन हथियारों और गोलाबारूद के स्टोरेज और युद्धों के स्वरूप में होने वाले बदलाव की वजह से इसे घटाकर 10 दिन कर दिया गया था।

उड़ी हमले के बाद महसूस किया गया कि War सामग्री का रिजर्व स्टॉक कम है। तबके रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर की अगुआई में रक्षामंत्रालय ने थल सेना, नौसेना और वायुसेना के उप प्रमुखों के वित्तीय अधिकारों को 100 करोड़ रुपए से बढ़ाकर 500 करोड़ रुपए कर दिया था। तीनों अंगों को 300 करोड़ रुपए तक के उपकरणों की आपातकालीन खरीद का अधिकार भी दिया गया, जो उनके लिए युद्ध के समय में मददगार हो सकते हैं।

READ MORE:   श्री प्रशांत कुमार सीएच की अध्यक्षता में जिला आपूर्ति टास्क फोर्स की बैठक का आयोजन हुआ

सेनाएं कई तरह के पुर्जों, हथियारों, मिसाइल और दुश्मनों का प्रभावी तरीके से सामना करने के लिए सिस्टम्स की खरीद कर रही हैं। सूत्रों का कहना है कि टैंक और तोपखाने के लिए बड़ी संख्या में मिसाइलों और गोला-बारूद की खरीद की गई है। गौरतलब है कि भारत और चीन का लद्दाख सेक्टर में कई महीनों से तनाव चल रहा है। जून में दोनों सेनाओं में हिंसक झड़प भी हो चुकी है। कई दौर की बातचीत के बाद भी कोई रास्ता निकलता नहीं दिख रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *