world hepatitis day

2020-2030 के बीच पैदा होने वाले 53 लाख बच्‍चे हो सकते हैं हेपेटाइटिस-बी के शिकार-डब्‍ल्‍यूएचओ

विदेश हेल्थ

जिनेवा – विश्व Hepatitis-B दिवस के मौके पर विश्व स्वास्थ्य संगठन की तरफ से एक अच्‍छी खबर सामने आई है। संगठन ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि वर्ष 2019 में दुनिया भर में पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों में संभावित जानलेवा Hepatitis-B की मौजूदगी में कमी आई है। संगठन के मुताबिक 1980-2000 के दौर में ये करीब 5 फीसद थी। हालांकि इस समय को Hepatitis-B की वैक्सीन बनने से पहले का दौर कहा जाता है। WHO की तरफ से हेपेटाइटिस मुक्त भविष्य को इस वर्ष की थीम बनाया गया है। इसमें संगठन ने इस बीमारी के खात्‍मे पर जोर दिया है।

WHO की खबर में लंदन के इंपीरियल कॉलेज और विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा किये गए एक संयुक्त अध्ययन की भी जानकारी दी है। इसमें कहा गया है कि Covid-19 महामारी की वजह से संगठन द्वारा चलाए जा रहे Hepatitis-B टीकाकरण कार्यक्रम रुकावट पैदा हुई है जिससे भविष्‍य के तय लक्ष्‍यों को हासिल करने में भी दिक्‍कत हो सकती है। WHO का अनुमान है कि यदि ऐसा ही चलता रहा तो वर्ष 2020-2030 के बीच पैदा होने वाले लगभग 53 लाख अतिरिक्त बच्चों में दीर्घकालिक संक्रमण के मामले दर्ज हो सकते हैं। इन बच्चों में दस लाख बच्चों की मौत Hepatitis-B से संबंधित बीमारियों के कारण हो सकती है।


Hepatitis-B को साइलेंट किलर कहा जाता है। हेपेटाइटिस-बी लिवर को प्रभावित करने वाला एक वायरस संक्रमण है जिससे अनेक तरह की बीमारियां होती हैं, जिनमें कैंसर भी शामिल है। इस बीमारी के प्रति लोगों में जागरूकता बढ़ाने के इरादे से हर वर्ष 28 जुलाई को विश्व Hepatitis-B दिवस मनाने का फैसला किया गया था।


इस रिपोर्ट को जारी करते हुए WHO के महानिदेशक टैड्रॉस एडेनहॉम घेबरेयेसस ने कहा कि कोई भी नवजात शिशु अपनी उम्र में आगे चलकर Hepatitis-B का शिकार केवल इसलिये नहीं हो जाना चाहिये कि उसे Hepatitis-B से बचने की वैक्सीन नहीं मिली थी। उनके अनुसार आज की उपलब्धि हमें बताती है कि हमनें लिवर क्षति के मामलों में कमी कर ली है। इसके साथ ही हमनें भविष्य की पीढ़ियों को लिवर कैंसर से भी बचा लिया है। इस दौरान केवल यही उपलब्धि हमारे सामने दर्ज नहीं की गई है बल्कि टिकाऊ विकास लक्ष्यों हो हासिल करने में एक अति महत्वपूर्ण कामयाबी हासिल दर्ज हुई है।


संयुक्‍त राष्‍ट्र की स्वास्थ्य एजेंसी के प्रमुख ने इस मौके पर कहा कि Hepatitis-B को मां से बच्चे में फैलने से रोकना होगा। इस बीमारी से छुटकारा पाने और लोगों की जिंदगियां बचाने के लिये यह एक सर्वाधिक प्रभावशाली रणनीति है। उन्‍होंने पूरी दुनिया से इस बात की भी अपील की है कि सभी देश गर्भवती महिलाओं का परीक्षण सुनिश्चित करवाने का प्रयास करें। इसके अलावा उन्‍होंने इस बात की भी अपील की है कि Hepatitis-B का टीकाकरण बढ़ाने और जन्म के समय बच्चों को दी जाने वाली वैक्सीन की खुराक बढ़ाई जाई। संगठन का अनुमान है कि दुनिया भर में 25 करोड़ से ज़्यादा लोग Hepatitis-B के दीर्घकालीन संक्रमण के शिकार हैं।


संगठन का कहना है कि जो बच्चे अपने जन्म के पहले वर्ष में Hepatitis-B के संक्रमण का शिकार हो जाते हैं उनमें से 90 फीसद बच्चों में ये संक्रमण लंबे समय तक रह जाता है। Hepatitis-B बीमारी से हर वर्ष लगभग 9 लाख लोगों की मौत हो जाती है। नवजात शिशुओं को Hepatitis-B से एक ऐसी वैक्सीन के माध्‍यम से बचाया जा सकता है। WHO ने ये भी कहा है कि सभी नवजात शिशुओं को Hepatitis-B की पहली खुराक जन्म के बाद जल्‍द से जल्‍द मिल जानी चाहिए। बेहतर होगा यदि ये खुराक जन्म के 24 घंटो के भीतर ही मिल जाए। इसके बाद अगली दो खुराक भी समय से ही मिल जानी चाहिए। वर्ष 2019 के दौरान नवजात बच्चों की 85 प्रतिशत आबादी को इसकी 3 खुराक देने के अभियान से जोड़ा गया था। वर्ष 2000 में ये केवल 30 फीसद तक ही सीमित था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *