National Herald case

National Herald Case: सोनिया गांधी के आग्रह को ईडी ने किया स्वीकार,अब जुलाई के अंत में पेश होने के लिए कहा

National Herald Case: प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने नेशनल हेराल्ड (National Herald Case) से जुड़े कथित धनशोधन के मामले में पेशी की तारीख आगे बढ़ाने संबंधी कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) के आग्रह को स्वीकार कर लिया है। ईडी (ED) ने सोनिया गांधी को इस मामले में जुलाई के आखिर में पेश होने के लिए कहा है। अधिकारियों ने गुरुवार को यह जानकारी दी है।

सोनिया गांधी ने पेशी की तारीख को आगे बढ़ाने का किया था आग्रह
कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) ने अपनी खराब सेहत के मद्देनजर ईडी (ED) से आग्रह किया था कि उनकी पेशी की तारीख कुछ सप्ताह के लिए आगे बढ़ा दी जाए। ईडी (ED) ने उनके इस आग्रह को स्वीकार कर लिया। बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष को आज यानी 23 जून को पेश होना था।

ED ने 23 जून को किया था तलब
न्यूज एजेंसी भाषा की रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से बताया गया है कि जांच एजेंसी ने सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) से प्रस्तावित पूछताछ को 4 सप्ताह के लिए स्थगित कर दिया है और अब उनसे कहा गया है कि वह जुलाई महीने के आखिर में किसी समय पेश होकर अपना बयान दर्ज कराएं। कांग्रेस अध्यक्ष को ईडी (ED) ने नेशनल हेराल्ड समाचार पत्र से जुड़े कथित धनशोधन के मामले में 23 जून को तलब किया था। इससे पहले ईडी (ED) ने उन्हें 8 जून को तलब किया था, लेकिन कोविड संक्रमण के बाद उन्हें 23 जून को बुलाया गया।

सोनिया गांधी को हाल ही में अस्पताल से मिली थी छुट्टी
बता दें कि कोविड-19 (Covid-19) से जुड़ी स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं के चलते सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) को हाल ही में दिल्ली के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां से उन्हें सोमवार की शाम छुट्टी मिल गई थी। इसी मामले में ईडी (ED) ने पार्टी के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) से 5 दिन में 50 घंटे से अधिक समय तक पूछताछ की व इस दौरान धनशोधन रोकथाम अधिनियम (PMLA) के तहत उनके बयान दर्ज किए गए।

प्रतिशोध की राजनीति के तहत की जा रही ईडी की कार्रवाई: कांग्रेस
अधिकारियों के अनुसार कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं और गांधी परिवार से पूछताछ ईडी (ED) की जांच का हिस्सा है, ताकि यंग इंडियन और एसोसिएटेड जर्नल्स लिमिटेड (AJL) के हिस्सेदारी पैटर्न, वित्तीय लेन-देन और प्रवर्तकों की भूमिका को समझा जा सके। यंग इंडियन के प्रवर्तकों और शेयरधारकों में सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) तथा राहुल गांधी (Rahul Gandhi) सहित कांग्रेस के कुछ अन्य सदस्य शामिल हैं। कांग्रेस का कहना है कि उसके शीर्ष नेताओं के खिलाफ लगाए गए आरोप निराधार हैं तथा ईडी (ED) की कार्रवाई प्रतिशोध की राजनीति के तहत की जा रही है। उसने यह भी कहा कि पार्टी और उसका नेतृत्व झुकने वाले नहीं है।