कैसे मारा गया पांच लाख का इनामी विकास दुबे?

NEWS Top News

उत्तर प्रदेश के मोस्ट वॉन्टेड अपराधी Vikas Dubey को मार गिराया गया है। कानपुर के बिकरू गांव में दो जुलाई को 8 पुलिसकर्मियों की हत्या मामले में यह बड़ी पुलिसिया कार्रवाई है। विकास दुबे पर पांच लाख का इनाम था। पुलिस की माने तो उज्जैन से कानपुर लाते समय Vikas Dubey ने भागने की कोशिश की। इस दौरान एनकाउंटर हुआ और वह मारा गया।

Vikas Dubey के एनकाउंटर को लेकर कानपुर पुलिस की ओर से जारी बयान में कहा गया, ‘5 लाख के इनामी विकास दुबे को उज्जैन से गिरफ्तार किये जाने के बाद पुलिस और STF टीम आज 10 जुलाई को कानपुर नगर ला रही थी। कानपुर नगर भौंती के पास पुलिस की गाड़ी दुर्घटनाग्रस्त होकर पलट गई। Vikas Dubey और पुलिसकर्मी घायल हो गए।’

हथियार छीनकर भागने की कोशिश कर रहा था विकास दुबे

कानपुर पुलिस के अनुसार, ‘इस दौरान Vikas Dubey ने घायल पुलिस कर्मी की पिस्टल छीन कर भागने की कोशिश की। पुलिस टीम द्वारा पीछा कर उसे घेर कर आत्मसमर्पण करने के लिए कहा गया, लेकिन वह नहीं माना और पुलिस टीम पर फायर करने लगा। पुलिस ने आत्मरक्षार्थ जवाबी फायरिंग की। इस दौरान Vikas Dubey घायल हो गया।’

पुलिस के अनुसार, घायल Vikas Dubey को तुरंत इलाज के लिए अस्पताल ले जाया गया, जहां इलाज का दौरान पांच लाख के इनामी Vikas Dubey की मौत हो गई। कानपुर पुलिस की ओर से अभी बयान जारी किया गया है। इस बाबत कोई भी पुलिस अधिकारी कैमरे के सामने बोलने से बच रहा है।

मारा गया गैंगस्टर, UP एसटीएफ ने कानपुर में किया ढेर

Vikas Dubey का एनकाउंटर ठीक उसी तरह हुआ, जिस तरह गुरुवार को उसके साथी प्रभात मिश्रा का एनकाउंटर हुआ था। पुलिस के अनुसार, कार पंक्चर होने के बाद प्रभात मिश्रा ने पुलिस का हथियार छीनकर भागने की कोशिश की थी और जब पुलिस ने सरेंडर करने के लिए कहा तो उसने फायरिंग शुरू कर दी। जवाबी कार्रवाई में प्रभात मारा गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *