air pollution may make COVID-19 more deadly

सावधान रहे! कोरोना को और घातक बना सकता है वायु प्रदूषण

विदेश

कोरोना वायरस से इस समय पूरी दुनिया जूझ रही है। अब तक इस वायरस से मुकाबले के लिए कोई प्रभावी इलाज और वैक्सीन तक मुहैया नहीं हो पाई है। ऐसे में चिंता बढ़ाने वाला एक अध्ययन सामने आया है, जिसका दावा है कि शहरी वायु प्रदूषण के चलते यह वायरस और घातक बन सकता है। खासतौर से नाइट्रोजन डाइऑक्साइड Covid-19 को ज्यादा खतरनाक बना सकता है।

इनोवेशन पत्रिका में प्रकाशित शोध के अनुसार, अमेरिका में गत जनवरी से लेकर जुलाई के दौरान पार्टिकल मैटर (पीएम2.5), नाइट्रोजन डाइऑक्साइड और ओजोन समेत कई शहरी वायु प्रदूषकों के विश्लेषण के आधार पर यह निष्कर्ष निकाला गया है। अमेरिका की एमोरी यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता डोंगाई लियांग ने कहा, ‘वायु प्रदूषण में कम और लंबे समय तक रहने यानी दोनों का मानव शरीर पर प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष असर पड़ता है। इसके चलते ऑक्सीडेटिव स्ट्रेस, एक्यूट इंफ्लेमेशन और श्वसन तंत्र में संक्रमण का खतरा रहता है।’

शोधकर्ताओं ने वायु प्रदूषण और Corona के गंभीर मामलों के बीच जुड़ाव का पता लगाने के लिए इस वायरस से होने वाली मौतों पर गौर किया। उन्होंने बताया कि प्रदूषकों के विश्लेषण के दौरान नाइट्रोजन डाइऑक्साइड और Corona से किसी व्यक्ति की मौत के बीच गहरा ताल्लुक पाया गया। हवा में नाइट्रोजन डाइऑक्साइड की बढ़ोतरी का संबंध Corona से मौत के खतरे में 16.2 फीसद तक की वृद्धि से पाया गया है। लियांग ने कहा, ‘लंबे समय तक शहरी प्रदूषण खासतौर पर नाइट्रोजन डाइऑक्साइड की चपेट में रहने से कोरोना के मामलों में नतीजा घातक हो सकता है।’


भारत में Covid-19 के मरीजों की संख्या 68 लाख के पार पहुंच गई है। जबकि अभी तक 105526 Corona मरीज इस महामारी से जंग हार चुके हैं। हालांकि, इस बीच अच्छी खबर ये है कि भारत में Corona रिकवरी रेट तेजी से बढ़ रहा है। देश में एक्टिव मामलों की संख्या में कमी दर्ज की जा रही है। अभी तक 58 लाख 27 हजार 704 Covid-19 मरीज ठीक हो चुके हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक भारत में रिकवरी रेट 85.02 फीसद हो गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *