बिहार का रण: तेजस्‍वी का CM नीतीश पर तंज: पहले क्‍यों नहीं बताया 30 साल बाद आएगा कोरोना

Corona Updates elections NEWS देश बिहार राजनीति

राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) व उनके परिवार (Lalu Family) ने एक साथ मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) की सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। लालू प्रसाद यादव के बेटे व नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव (Tejashwi Yadav) ने उपमुख्‍यमंत्री सुशील मोदी (Dy.CM Sushil Kumar Modi) पर तंज कसते हुए कहा है कि वे अब ये कहेंगे कि लालू ने अपने 15 साल के शासन में यह क्‍यों नहीं सोचा कि 30 साल बाद कोरोना (CoronaVirus) आएगा? अगर लालू ऐसा सोंच लेते तो नीतीश कुमार ने 15 वर्ष के सुशासन में अस्पताल नहीं खोला तो क्या हुआ, इसका टीका ज़रूर खोज लेते। इसके पहले लालू प्रसाद यादव ने भी राज्‍य में गहराते कोरोना संकट के काल में कंटेनमेंट जोन में सरकारी व्यवस्था पर तंज कसते हुए इसकी तुलना इंटरटेनमेंट जोन से की। राबड़ी देवी(Rabri Devi) ने भी इलाज की व्‍यवस्‍था पर सवाल उठाए।

तेजस्‍वी यादव ने रविवार की सुबह अपने ट्वीट में CM नीतीश कुमार व उपमुख्‍यमंत्री सुशील मोदी पर हमला किया। उन्‍होंने कहा कि अब सुशील मोदी यह कहेंगे कि लालू प्रसाद यादव ने अपने कार्यकाल में यह क्यों नहीं सोचा कि 30 वर्ष बाद बिहार में कोरोना आएगा? सारा दोष लालू का ही है। सुशील मोदी को भूतद्रष्‍टा बताते हुए तेजस्‍वी ने आगे तंज कसा कि वे कहेंगे कि अगर लालू यह सोच लेते तो नीतीश कुमार ने 15 वर्ष के अपने सुशासन में अस्पताल नहीं खोला तो क्या हुआ, कोरोना का टीका जरूर खोज लेते।

इसके पहले तेजस्वी यादव ने बिहार में कोरोना जांच की सुस्त रफ्तार का आरोप लगाकर सरकार को घेरा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले 36 हजार से ज्यादा हो गए हैं। पिछले आठ जुलाई के बाद से प्रत्येक दिन औसतन 1200 से अधिक मरीज सामने आ रहे हैं। इस दौरान स्वस्थ होने वालों की संख्या भी घटी है। उन्होंने कहा कि सरकार के स्तर पर दिशा और रणनीति का स्पष्ट अभाव है। जब प्रतिदिन कम से कम 10000 जांच होनी चाहिए थी, तो बिहार में मुश्किल से 3000 जांच हुई। तेजस्वी ने आरोप लगाया कि कम जांच के जरिए सरकार कोरोना के आंकड़े कम दिखाना चाहती थी।

तेजस्वी ने आग्रह करते हुए कहा कि CM नीतीश कुमार को कोरोना और बाढ़ जैसे गंभीर हालात में सामने आकर जनता की सुध लेना चाहिए। ऐसी सरकार का क्या फायदा जो मुसीबत के समय अपनी जनता को भाग्य के भरोसे छोड़ दे।

इसके पहले लालू प्रसाद यादव ने अपने ट्वीट में कहा है कि बिहार के कंटेनमेंट जोन किसी भी मायने में इंटरटेनमेंट जोन से कम नहीं हैं। इसके पहले लालू ने केंद्र एवं राज्य सरकार को लेकर कटाक्ष करते हुए कहा था कि डबल इंजन की सरकार में ईंधन नहीं बचा है। दोनों ही इंजन कबाड़ हो गया है। लालू ने पब्लिक से आग्रह करते हुए लिखा कि इन्हें बिहार से जल्दी हटा देना चाहिए।

राबड़ी देवी ने भी ट्वीट कर सरकार पर हमला बोला। उन्‍होंने उपमुख्यमंत्री ने सुशील कुमार मोदी से पूछा कि 15 वर्ष की उनकी सरकार में CM की भतीजी के बीमार पडऩे पर बिहार के बड़े-बड़े अस्पतालों में इलाज क्यों नहीं कराया गया? राबड़ी ने उपमुख्‍यमंत्री के निजी सचिव के इलाज पर भी सवाल उठाया और कहा कि उनका इलाज निजी अस्पताल में क्यों कराया जा रहा है?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *