Quad Coalition against China

हिंद-प्रशांत क्षेत्र में चीन को रोकने के लिए मोर्चाबंदी करेंगे क्वाड देश

विदेश

हिंद-प्रशांत क्षेत्र में चीन की बढ़ती अवैध गतिविधियों के बीच क्वाड के सदस्य देशों के विदेश मंत्रियों की बैठक होने जा रही है। यह बैठक मुख्यरूप से China की आक्रामकता को विफल करने के लिए उठाए जाने वाले जरूरी कदमों पर केंद्रित होगी। Quad यानी चतुष्कोणीय सुरक्षा संवाद भारत, अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया के बीच अनौपचारिक रणनीतिक वार्ता मंच है। इसका उद्देश्य एशिया-प्रशांत क्षेत्र में शांति की स्थापना और शक्ति का संतुलन है।

Quad के विदेश मंत्रियों की बैठक ऐसे समय में होने जा रही है, जब China अपनी सैन्य व आर्थिक ताकत के बल पर हिंद-प्रशांत और यूरोप-एशिया के क्षेत्रों में अपना दबदबा कायम करना चाहता है। हाल के महीनों में चीन के खिलाफ दूसरे देशों का रुख सख्त हुआ है, खासकर Corona महामारी के बाद, जो उसके वुहान शहर से पैदा हुआ है।

अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने 23 जुलाई को एक असाधारण भाषण दिया था, जिसमें उन्होंने China के साथ अपने देश के 40 साल से चले आ रहे संबंधों को औपचारिक तौर पर खत्म करने की बात कही थी। अमेरिका ने चीन के साथ इस उम्मीद में रिश्ते जोड़े थे कि खुद को बदल लेगा, क्योंकि वह वैश्विक अर्थव्यवस्था का अभिन्न हिस्सा है।

अमेरिकी सांसद टॉम टिफनी ने 16 सितंबर को सदन में एक विधेयक पेश किया था, जिसमें उन्होंने ‘एक चीन’ नीति को खत्म कर ताइवान के साथ औपचारिक संबंध शुरू और उसके साथ मुक्त व्यापार के लिए बातचीत करने का अनुरोध किया था। China की बढ़ती आक्रामकता का नतीजा है कि भारत के साथ उसके संबंध तनाव की चरम सीमा पर पहुंच गए हैं। पूर्वी लद्दाख में भारत के 20 सैनिक शहीद हो चुके हैं और उसके भी कई सैनिक मारे गए हैं।


दक्षिण China सागर में भी वह आक्रामक बना हुआ है। यही वजह है कि जापान के नए प्रधानमंत्री ने भी उसके खिलाफ सख्त रुख अपनाया हुआ है। जापान के रक्षा मंत्री और पूर्व PM शिंजो एबी के भाई नोबुओ किशी China द्वारा अपनी सैन्य ताकत बढ़ाने को लेकर चिंता जता चुके हैं। किशी ताइवान के साथ नजदीकी संबंधों को लिए जाने जाते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *