CM मनोहरलाल खट्टर की महापंचायत से पहले पुलिस और किसानों में भिड़ंत

हरियाणा (Haryana) के करनाल जिले के कैमला गांव में बीजेपी (BJP) की तरफ से किसान महापंचायत (Kisan Mahapanchayat) रैली बुलाई गई है। इस रैली में राज्य के CM मनोहर लाल खट्टर (Manohar Lal Khattar) किसानों को संबोधित करने वाले हैं। लेकिन उनका विरोध करने के लिए वहां हजारों किसान इकट्ठा हो गए हैं। पुलिस ने उन्हें तितर-बितर करने की कोशिश की लेकिन किसान नहीं माने। पुलिस ने उग्र किसानों पर ठंडे पानी की बौछार और आंसू गैस के गोले दागे हैं। इससे वहां स्थिति तवानपूर्ण बनी हुई है।

सैकड़ों किसान आसपास के इलाके से वहां जमा हो चुके हैं। पुलिस से झड़प के बाद ये सभी किसान फिलहाल गांवों और खेत खलिहानों की ओर चले गए हैं। वहां भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई है।

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने इस बीच सीएम खट्टर पर निशाना साधा है. उन्होंने ट्वीट कर कहा है, “मा. मनोहर लाल जी, करनाल के कैमला गाँव में किसान महापंचायत का ढोंग बंद कीजिए। अन्नदाताओं की संवेदनाओं एवं भावनाओं से खिलवाड़ करके क़ानून व्यवस्था बिगाड़ने की साज़िश बंद करिए। संवाद ही करना है तो पिछले 46 दिनों से सीमाओं पर धरना दे रहे अन्नदाता से कीजिए।”

BJP शासित हरियाणा ने पिछले साल नवंबर में तब सुर्खियां बटोरी थीं, जब उसने पंजाब से दिल्ली आ रहे किसानों को रास्ते से रोकने का फैसला किया था और उन पर बल प्रयोग किया था। तब भी कुछ दिनों तक किसानों के साथ पुलिस की झड़प, बैरिकेडिंग, बैरिकेड्स तोड़ने, किसानों पर आंसू गैस और पानी की बौछार की रिपोर्ट और वीडियो फुटेज सामने आए थे।

हालांकि, भारी आलोचना के बाद, केंद्र सरकार ने 3 नए कृषि कानूनों के बारे में “गलत धारणा” को दूर करने के किसानों से बड़े स्तर पर संवाद करने की योजना बनाई है। PM मोदी खुद इस तरह के कार्यक्रम में शिरकत कर चुके हैं। CM खट्टर भी किसानों से संवाद कर कृषि कानूनों पर स्थिति स्पष्ट करना चाहते हैं। खट्टर पहले भी कह चुके हैं कि MSP नहीं हटाया जाएगा।

Leave a Comment

Your email address will not be published.