Indian Air Force

भारत के पास राफेल लड़ाकू विमान की दस्तक से पाकिस्तान को लगा ‘जोर का झटका’, छान मारा गूगल

विदेश

राफेल लड़ाकू विमान के भारत आते ही पाकिस्‍तान की बेचैनी बढ़ गई है। Pakistan के विदेश मंत्रालय की ओर से कहा गया है कि भारत अपनी रक्षा जरूरतों से कहीं ज्‍यादा हथियार जुटाने में लगा हुआ है। भारत के इस कदम से दक्षिण एशिया में हथियारों की होड़ शुरू हो सकती है, जिसकी वजह से माहौल अशांत हो जाएगा। इसके साथ ही Pakistan ने वैश्विक स्‍तर पर भी अपील कर भारत को हथियार जमा करने से रोकने की अपील की है। Rafale विमानों की पहली खेप फ्रांस से भारत बुधवार को पहुंच गई है।


पाकिस्‍तान के विदेश मंत्रालय की प्रवक्‍ता आयशा फारूकी ने साप्‍ताहिक प्रेस कॉन्‍फ्रेंस के दौरान कहा, ‘हमने वो रिपोर्ट देखी, जिसमें बताया गया है कि भारतीय वायु सेना को 5 Rafale विमान की पहली खेप मिल गई है। यह बेहद परेशान करने वाला है कि भारत लगातार अपनी जरूरत से ज्‍यादा सैन्‍य क्षमता जमा कर रहा है। भारत अब दूसरा सबसे बड़ा हथियारों का आयातक देश बन गया है। यह दक्षिण एशिया में रणनीतिक स्थिरता को बुरी तरह से प्रभावित कर रहा है।’


उन्‍होंने कहा, ‘भारत द्वारा क्षमता से ज्‍यादा हथियार जुटाना पाकिस्‍तान के लिए भी शुभ संकेत नहीं हैं। यह परेशान करने वाली बात है। अंतरराष्‍ट्रीय समुदाय को इस पर ध्‍यान देना चाहिए।’ Rafale के खौफ आलम यह है कि इन विमानों के आने से ठीक पहले Pakistan के एयरफोर्स चीफ को आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा से आपात बैठक करनी पड़ी है। उधर, चीन भी Rafale के आने के बाद जरूर बौखलाया है। हालांकि, अभी तक चीन की ओर से कोई बयान जारी नहीं किया गया है।


वायुसेना के नये सरताज Rafale लड़ाकू विमानों की पहली खेप ने बुधवार को अंबाला एयरफोर्स बेस पर उतरते ही भारतीय वायुसेना की मारक क्षमता में एक नया अध्याय जोड़ दिया। दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बहुद्देशीय लड़ाकू विमानों में गिने जाने वाले Rafale से मिली नई ताकत के जोश से सरोबार वायुसेना ने भी भारतीय आकाश क्षेत्र में प्रवेश से लेकर अंबाला में हुई लैंडिंग तक इनकी जोरदार अगवानी की।


रुस से खरीदे गए सुखोई विमानों के पश्चात करीब 23 साल बाद वायुसेना ने नये जेनरेशन का लड़ाकू जेट Rafale हासिल किया है। Rafale के भारत पहुंचने पर सरकार से लेकर वायुसेना के उत्साह की वजह इस लड़ाकू जेट की मारक क्षमता और खासियतें हैं। Rafale 4.5 जेनरेशन का मल्टी रोल कांबेट एयरक्रॉफ्ट है जो आकाश से जमीन पर और आकाश से आकाश दोनों में ही दुश्मन पर धावा बोलने में सक्षम है। एक बार ईधन भरने पर 10 घंटे तक लगातार उड़ान भर सकता है। इसकी स्पीड इतनी है कि एक मिनट में ही राफेल 60000 फीट की उंचाई पर जा सकता है और 2130 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से यह उड़ान भरने में सक्षम है। इसकी मारक क्षमता करीब 3700 किमी तक है। सबसे खास बात यह है कि Rafale जेट मिटियोर, स्कैल्प और बीवीआर जैसे अति आधुनिक मिसाइलों और हथियारों से लैस हैं। इसकी रडार प्रणाली भी बेहद मजबूत है और यह परमाणु मिसाइलों के संचालन की भी पूरी क्षमता रखता है।

जाहिर तौर पर Rafale विमानों की यह ताकत चीन और Pakistan की चुनौती का सामना करने में वायुसेना को नई छलांग देगी। राजनाथ सिंह ने कहा भी कि भारत के किसी खतरे की चुनौती का जवाब देने के लिए राफेल वायुसेना को मजबूती देंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *