CBI will investigate Hathras case

अब CBI करेगी हाथरस केस की जांच, योगी सरकार की थी स‍िफार‍िश

NEWS Top News क्राइम

उत्‍तर प्रदेश के हाथरस में हुए सामूह‍िक दुष्‍कर्म मामले की जांच को अब केंद्रीय जांच ब्यूरो ने अपने हाथ में ले ल‍िया है। CBI अब जल्द ही पूरे मामले में रेगूलर FIR दर्ज करेगी। CBI प्रकरण से जुड़े सभी दस्तावेज अब पुलिस से लेगी। केंद्र सरकार की डीओपीटी विभाग के नोटिफिकेशन के बाद CBI ने Hathras केस को टेकओवर किया है। अभी तक Hathras कांड की जांच SIT कर रही थी। योगी सरकार ने Hathras कांड की जांच के लिए CBI को संस्तुति पत्र भेजा था। हाल ही में इस जांच को पूरा करने के लिए यूपी सरकार ने 10 दिनों का और वक्त दिया था, ताकि सच सामने आ सके। लेक‍ि‍न इस मामले में लगातार बढ़ते पेच की वजह से सरकार ने ये फैसला लिया। अब ये मामला CBI के पास पहुंच गया है।

3 अक्टूबर को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने Hathras केस की जांच CBI से कराए जाने के आदेश दिए थे। योगी सरकार के इस आदेश के बाद सामूह‍िक दुष्‍कर्म पीड़िता की भाभी ने कहा था कि हम CBI जांच नहीं चाहते हैं। केस की न्यायिक जांच होनी चाहिए। हम जज की निगरानी में जांच चाहते हैं।


Hathras कांड की जांच CBI को सौंपने की मांग को लेकर एक गैर सरकारी संगठन (एनजीओ) शीर्ष कोर्ट पहुंचा था। कोर्ट से Hathras में दलित लड़की के साथ कथित ज्यादती के मामले की जांच CBI को स्थानांतरित करने का निर्देश देने की अपील की थी। बता दें कि उत्तर प्रदेश सरकार ने भी इस हफ्ते सुप्रीम कोर्ट में अपना हलफनामा दाखिल कर मामले की जांच CBI से कराने का आदेश देने का अनुरोध किया था।

माहौल ब‍िगाड़ने की साज‍िश
Hathras के बूलगढ़ी गांव के बहाने उत्तर प्रदेश का माहौल खराब करने में PFI के बाद अब नक्सल कनेक्शन भी सामने आया है। मृत दलित युवती के घर पर 16 सितंबर के बाद से ही सक्रिय ‘भाभी’ अब गायब हैं। घर में रहकर पीड़ित परिवार को भड़काने के साथ ही मीडिया में काफी बयान देने वाली भाभी अब सीन से गायब हैं। सरकार के विरोध में जमकर बयान देने वाली भाभी की पहचान जबलपुर में पीड़ित परिवार की कथित रिश्तेदार के रूप में हुई है।


Hathras के बूलगढ़ी गांव के इस केस के बहाने पश्चिमी उत्तर प्रदेश के साथ ही सम्पूर्ण उत्तर प्रदेश का माहौल खराब करने की योजना में एक और बड़ी साजिश सामने आ गई है। यहां पर PFI की मदद से बड़े दंगों की साजिश में भीम आर्मी के बाद अब नक्सल कनेक्शन भी पता चल गया है। अब SIT की टीम मध्य प्रदेश के जबलपुर की रहने वाली महिला की तलाश में जुटी है। पुलिस के मुताबिक यह फर्जी रिश्तेदार पीड़ित स्वजन को लगातार गाइड कर रही थी कि मीडिया में क्या बयान देना है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *