Sita Ramans fourth budget

Union Budget: महिला वित्तमंत्री के नाते चौथा बजट पेश करने का रिकार्ड बनाएंगी सीतारमण

कारोबार देश

कोरोना (Corona) की तीसरी लहर की गंभीर होती चुनौती और 5 राज्यों के चुनावों की सियासी सरगर्मी के बीच संसद का बजट (Budget) सत्र 31 जनवरी से शुरू होगा और 8 अप्रैल तक चलेगा। इस दौरान वर्ष 2022-23 का आम बजट एक फरवरी को पेश किया जाएगा। संसद के दोनों सदनों में राष्ट्रपति रामनाथ को¨वद के संयुक्त अभिभाषण के साथ शुरू होने वाले बजट (Budget) सत्र के 2 चरण होंगे। 5 राज्यों के चुनाव में राजनीतिक नेताओं और पार्टियों की व्यस्तता के मद्देनजर बजट सत्र का पहला चरण केवल 12 दिनों तक 31 जनवरी से 11 फरवरी तक ही चलेगा।


राष्ट्रपति के दोनों सदनों में संयुक्त अधिवेशन के बाद पहले ही दिन लोकसभा और राज्यसभा में मौजूदा वित्त वर्ष का आर्थिक सर्वेक्षण पेश किया जाएगा। वित्तमंत्री निर्मला सीतारमन (Nirmala Sitharaman) एक फरवरी को सुबह 11 बजे लोकसभा में आम बजट (Budget) पेश करेंगी। देश की महिला वित्तमंत्री के तौर पर निर्मला संसद में लगातार चौथी बार आम बजट (Budget) पेश करने का रिकार्ड बनाएंगी। मोदी सरकार की दूसरी पारी का भी यह चौथा और 2014 से अब तक लगातार नौंवा आम बजट होगा। 5 राज्यों के चुनाव 14 फरवरी से शुरू होकर 10 मार्च तक होने हैं और इसके मद्देनजर ही 11 फरवरी को सत्र के पहले चरण पर विराम लग जाएगा। नए बजट और अनुदान मांगों के पारित करने की विधायी अनिवार्यताओं को देखते हुए इस हिसाब से पहले चरण में सियासी मद्देनजर पर संसद में ज्यादा बहस की गुंजाइश नहीं है।


ऐसे में सरकार तथा विपक्ष के बीच इसको लेकर भी सियासी तकरार की पूरी संभावनाएं हैं। एनडीए (NDA) सरकार ने अलग से रेल बजट की पंरपरा खत्म कर दी थी और पिछले कुछ सालों से रेल बजट आम बजट (Budget) का ही एक हिस्सा होता है। बजट सत्र का दूसरा चरण पांच राज्यों के चुनावी नतीजों के आने के बाद 14 मार्च से शुरू होगा और 8 अप्रैल तक चलेगा। केंद्रीय मंत्रिमंडल की संसदीय मामलों की समिति ने बजट (Budget) सत्र की तारीखों के इस प्रस्ताव पर मुहर लगा दी है और बजट सत्र बुलाने के आशय का आग्रह राष्ट्रपति को भेज दिया गया है। कोविड (Covid) की तीसरी लहर में संक्रमण की तेज गति को देखते हुए बजट (Budget) सत्र के संचालन की चुनौती भी ज्यादा बड़ी है और इसलिए नए सिरे से सत्र का प्रोटोकाल तय हो रहा है।


स्पीकर ओम बिरला ने 2 दिन पहले संसद परिसर का पूरा जायजा लेकर सत्र की तैयारियों की गहन समीक्षा की और संकेत हैं कि कोविड (Covid) संक्रमण की तेज गति को देखते हुए इस बार कोरोना (Corona) प्रोटोकाल ज्यादा सख्त होंगे। मालूम हो कि इसी हफ्ते संसद के करीब 500 अधिकारी-कर्मचारियों को जांच में कोविड संक्रमित पाया गया और इसीलिए बजट (Budget) सत्र में सांसदों की सुरक्षा के लिए विशेष सावधानी व सुरक्षा की तैयारियां की जा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *