MAN KI BAAT

‘मन की बात’ में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की बड़ी बातें

NEWS Top News

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहले से तय कार्यक्रम के अनुसार दोपहर 11 बजे रेडियो के माध्यम से ‘मन की बात’ कार्यक्रम के जरिए देश को संबोधित किए। इस दौरान उन्होंने विभिन्न मुद्दों पर अपनी बात देश के साथ साझा की। साथ ही उन्होंने बिहार और असम में आी बाढ़ के साथ-साथ Corona महामारी की चुनौतियों का भी जिक्र किया। साथ ही PM मोदी ने दसवीं और बारहवीं की परीक्षा में सफल कुछ छात्र-छात्राओं से बात कर उन्हें शुभकामनाएं दीं।

PM मोदी ने अपने मन की बात के दौरान मिथिला पेंटिंग के साथ-साथ असम में बांस से सामान बनाकर आत्मनिर्भर बन रहे लोगों की कहानी भी देश के साथ साझा की। PM मोदी ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर लोगों से Corona महामारी से आजादी का संकल्प लेने की अपील की। उन्होंने कहा कि Corona का खतरा अभी टला नहीं है, इसलिए मास्क का इस्तेमाल जरूर करें।

PM मोदी हर महीने के अंतिम रविवार को देश की जनता के साथ रू-ब-रू होते हैं। इस दौरान वह देश के वर्तमान हालात के साथ-साथ लोगों की कई रोचक कहनियां भी साझा करते हैं।

  • हमारा देश आज जिस ऊंचाई पर है वो कई ऐसी महान विभूतियों की तपस्या की वजह से है, जिन्होंने राष्ट्र निर्माण के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया। उन्हीं महान विभूतियों में से एक हैं लोकमान्य तिलक। एक अगस्त 2020 को लोकमान्य तिलक जी की 100वीं पुण्यतिथि है। लोकमान्य तिलक जी का जीवन हम सभी के लिए बहुत बड़ी प्रेरणा है। हम सभी को बहुत कुछ सिखाता है।
  • स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर Corona महामारी से आजादी का संकल्प लें।
    इस समय बारिश का मौसम भी है। पिछली बार भी मैंने आप से कहा था कि बरसात में गन्दगी और उनसे होने वाली बीमारी का खतरा बढ़ जाता है। अस्पतालों में भीड़ भी बढ़ जाती है, इसलिए आप साफ़-सफ़ाई पर बहुत ज्यादा ध्यान दें।
  • सात समुन्द्र पार भारत से हजारों मील दूर एक छोटा सा देश है जिसका नाम है ‘सूरीनाम’। आज सूरीनाम में एक चौथाई से अधिक लोग भारतीय मूल के हैं I क्या आप जानते हैं, वहां की आम भाषाओँ में से एक ‘सरनामी’ भी ‘भोजपुरी’ की ही एक बोली है।
  • मैं सभी युवा साथियों को यह आग्रह करूंगा कि वो अपनी कहानी, अपनी जुबानी जो देश को प्रेरित कर सकें, वो हम सब के साथ, जरुर साझा करें।
  • नॉर्थ ईस्ट में बांस से शानदार और इकोफ्रेंडली बोतल और टिफिन बॉक्स बन रहे हैं। बिहार में मधुबनी पेंटिंग वाले मास्क बन रहे हैं, जो अब काफी मशहूर हो चुके हैं। झारखंड के विष्णुपुर में लेमन ग्रास की खेती हो रही है। लद्दाख में खुमानी को तकनीकी तौर पर सुखाने का काम शुरू हुआ है। कच्छ में भी ड्रैगन फ्रूट्स की खेती खूब हो रही है।
  • अभी कुछ दिन बाद रक्षाबंधन का पावन पर्व आ रहा है। मैं इन दिनों देख रहा हूं कि कई लोग और संस्थायें इस बार रक्षाबंधन को अलग तरीके से मनाने का अभियान चला रहें हैं। कई लोग इसे Vocal for local से भी जोड़ रहे हैं और बात भी सही है।
  • जब हम कुछ नया करने का सोचते हैं तो ऐसे काम भी संभव हो जाते हैं, जिनकी आम-तौर पर कोई कल्पना नहीं करता। जैसे कि बिहार के कुछ युवा मोती का काम कर रहे हैं।
  • लेह और लद्दाख का नाम सामने आते ही खुबसूरत वादियां और ऊंचे-ऊंचे पहाड़ों के दृश्य हमारे सामने आ जाते हैं। ताज़ी हवा के झोंके महसूस होने लगते हैं। वहीँ कच्छ का ज़िक्र होते ही रेगिस्तान, दूर-दूर तक रेगिस्तान, कहीं पेड़-पौधा भी नज़र ना आये, ये सब, हमारे सामने आ जाते हैं।
  • बिहार में कई महिला स्वयं सहायता समूह ने मधुबनी पेंटिंग वाला मास्क बनाना शुरू किया है। देखते-ही-देखते यह काफी प्रसिद्घ हो गया है। ये मधुबनी मास्क एक तरह से अपनी परम्परा का प्रचार तो करते ही हैं, लोगों को स्वास्थ्य के साथ रोजगारी भी दे रहे हैं।
  • मैं आप से आग्रह करूंगा जब भी आपको मास्क के कारण परेशानी महसूस होती हो, मन करता हो उतार देना है तो पल-भर के लिए उन डॉक्टरों का का स्मरण कीजिये, उन नर्सों का स्मरण कीजिये, हमारे उन Corona वारियर्स का स्मरण कीजिये। आप देखिये वो मास्क पहनकर के घंटो तक लगातार, हम सबके जीवन को, बचाने के लिए जुटे रहते हैं।
  • हमें यह ध्यान रखना है कि Corona अब भी उतना ही घातक है, जितना शुरू में था। इसीलिए हमें पूरी सावधानी बरतनी है।
  • अटल जी ने कहा था कि कारगिल युद्ध ने हमें एक दूसरा मंत्र दिया है। ये मंत्र था कि कोई महत्वपूर्ण निर्णय लेने से पहले हम ये सोचें कि क्या हमारा ये कदम उस सैनिक के सम्मान के अनुरूप है जिसने उन दुर्गम पहाड़ियों में अपने प्राणों की आहुति दी थी।
  • मेरा देश के नौजवानों से आग्रह है कि आज दिन-भर कारगिल विजय से जुड़े हमारे जाबाजों की कहानियाँ, वीर-माताओं के त्याग के बारे में, एक-दूसरे को बताएं और शेयर करें।
  • मैं देख रहा हूं कि आज देश भर में लोग कारगिल विजय को याद कर रहे है। सोशल मीडिया पर एक हैशटैग #courageinkargil के साथ लोग अपने वीरों को नमन कर रहें हैं, जो शहीद हुए हैं उन्हें श्रद्धांजलि दे रहें हैं।
  • उस समय, मुझे भी कारगिल जाने और हमारे जवानों की वीरता के दर्शन का सौभाग्य मिला, वो दिन, मेरे जीवन के सबसे अनमोल क्षणों में से एक है।
  • भारत की वीर सेना ने जो पराक्रम दिखाया, भारत ने अपनी जो ताकत दिखाई, उसे पूरी दुनिया ने देखा था।
  • आप कल्पना कर सकते हैं, ऊचें पहाडों पर बैठा हुआ दुश्मन और नीचे से लड़ रही हमारी सेनाएँ, हमारे वीर जवान, लेकिन, जीत पहाड़ की ऊंचाई की नहीं, भारत की सेनाओं के ऊँचे हौंसले और सच्ची वीरता की हुई ।
    पाकिस्तान ने बड़े-बड़े मनसूबे पालकर भारत की भूमि हथियाने और अपने यहां चल रहे आन्तरिक कलह से ध्यान भटकाने को लेकर दुस्साहस किया था । भारत तब पाकिस्तान से अच्छे संबंधों के लिए प्रयासरत था।
  • आज, ‘कारगिल विजय दिवस’ है । 21 साल पहले आज के ही दिन कारगिल के युद्ध में हमारी सेना ने भारत की जीत का झंडा फहराया था । साथियो, कारगिल का युद्ध जिन परिस्थितियों में हुआ था, वो, भारत कभी नहीं भूल सकता ।

पिछले ‘मन की बात’ कार्यक्रम के दौरान PM मोदी लद्दाख, Coronavirus, अनलॉक समेत कई मुद्दों पर बात की थी। उन्होंने लद्दाख झड़प पर कहा था कि भारत अपने पड़ोसियों के साथ दोस्ती निभाना जानता है, तो फिर जरूरी समय पर उचित जवाब देना भी जानता है। उन्होंने कहा था, ‘लद्दाख में भारत की भूमि पर, आंख उठाकर देखने वालों को करारा जवाब मिला है। हमारे वीर सैनिकों ने दिखा दिया है कि वो कभी भी मां भारती के गौरव पर आंच नहीं आने देंगे।’

‘मन की बात’ में प्रधानमंत्री मोदी ने Coronavirus पर कहा था कि भारत ने जिस तरह मुश्किल समय में दुनिया की मदद की, उसने आज शांति और विकास में भारत की भूमिका को और मजबूत किया है। दुनिया ने भारत की विश्व बंधुत्व की भावना को भी महसूस किया है। अपनी संप्रभुता और सीमाओं की रक्षा करने के लिए भारत की ताकत और भारत के कमिटमेंट को देखा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *