IPL और वीवो का साथ छूटा, बीसीसीआई के सामने अब क्या हैं चुनौतियां

NEWS Special Report क्रिकेट देश

भारत और चीन के बीच सीमा पर जारी तनाव का असर आईपीएल (IPL) पर भी पड़ा है। IPL की टाइटल स्पॉन्सर चीनी कंपनी वीवो (VIVO) ने इस साल लीग से हाथ खींच लिए हैं। बोर्ड को टाइटल स्पॉन्सरशिप से अच्छी खासी कमाई होती है। बोर्ड के सामने अब विकल्प तलाशने की बड़ी चुनौती है। चलिए, बताते हैं कि आखिर यह पूरा मामला क्या है।

चीनी मोबाइल कंपनी वीवो की भारतीय शाखा वीवो इंडिया और बीसीसीआई (BCCI and VIVO) ने साल 2020 के इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के लिए अलग होने का फैसला किया है। क्रिकेट बोर्ड ने सोमवार को इस बात पर फैसला किया। हालांकि अगले साल के लिए रास्ते अभी बंद नहीं हुए हैं। यह सब साल 2021 के हालातों पर निर्भर करेगा। वीवो ने शुरुआत में 2015 में टाइटल स्पॉन्सरशिप के अधिकार हासिल कि थे। इसके बाद साल 2017 में वह पांच साल (2017-2022) तक एक बार फिर टाइटल स्पॉन्सर बना।

रविवार को आईपीएल की गर्वनिंग काउंसिल (IPL Governing Council) ने 2020 के लिए सभी स्पॉन्सर्स को कायम रखने का फैसला किया था। UAE में 19 सितंबर से होने वाले इस टूर्नमेंट के लिए चीनी स्पॉन्सर्स को साथ रखने के फैसले का कड़ा विरोध हुआ। राजनीतिक पार्टियों के साथ-साथ सोशल मीडिया पर भी BCCI को आलोचनाओं का सामना करना पड़ा। भारत और चीन के बीच सीमा पर जारी विवादों के बीच बोर्ड का यह फैसला लोगों को नागवार गुजरा। देश में चीन और चीन के बने सामानों का कड़ा विरोध हो रहा है और ऐसे में जब बोर्ड ने वीवो को साथ रखने का शुरुआती फैसला किया तो लोग भड़क गए।

हालांकि, बोर्ड और टाइटल स्पॉन्सर के बीच बहुत कड़ा अनुबंध हैं। वीवो इंडिया को परिस्थितियों का अंदाजा है। वह देख रही है कि मार्केट और राजनीतिक माहौल उसके पक्ष में नहीं है। इसी वहज से वह सौहार्दपूर्ण तरीके से डील से बाहर निकली है। इसलिए, इस पूरी डील में कोई कानूनी कार्रवाही नहीं होगी।

हालांकि, BCCI और आईपीएल फ्रैंचाईजी, भी सेंट्रलू पूल रेवेन्यू को 50-50 की दर से बांटने को बाध्य हैं। IPL के 10 साल पूरे होने के बाद यह नियम लागू हुआ है। वीवो के साल के 440 करोड़ रुपये की स्पॉन्सरशिप का अर्थ है कि BCCI को इससे 220 करोड़ की कमाई होती और बाकी के 220 करोड़ रुपये आठों फ्रैंचाइजी में बराबर (हर फ्रैंचाइजी को 28 करोड़ रुपये) मिलते।

अब, इस बार IPL को ज्यादा गेट रेवेन्यू भी नहीं मिलेगा। क्योंकि यह इवेंट सिर्फ टीवी के लिए होने वाला है। हालांकि UAE सरकार ने पहले हफ्ते के बाद सीमित संख्या में दर्शकों को मैदान में आने की अनुमति दे दी है लेकिन फिर भी मुख्य रूप से यह इवेंट टीवी के दर्शकों के लिए ही होगा। इसका अर्थ है कि हर मैच से करीब 3 से साढ़े तीन करोड़ रुपये का नुकसान होगा। यानी हर फ्रैंचाइजी को करीब 21-24 करोड़ रुपये। इसका अर्थ है कि हर फ्रैंचाइजी को करीब 50 करोड़ रुपये का नुकसान होने का अंदेशा है।

क्या बोर्ड वीवो के ही वैल्यू में कोई दूसरा स्पॉन्सर तलाश सकता है? यह मुश्किल सवाल है, बाजार के हालात अच्छे नहीं हैं। कोरोना वायरस वैश्विक महामारी ने इस पर ब्रेक लगा दिया है। इसके साथ ही IPL को शुरू होने में अब बमुश्किल 45 दिन बचे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *