Political, Crisis In Rajasthan

सरकार बचाने के लिए सीएम गहलोत ने विधायकों और मंत्रियों से की मुलाकात

NEWS Top News

राजस्थान में राजनीतिक घमासान के बीच जयपुर में मुख्यमंत्री Ashok Gehlot के निवास पर कई विधायक और मंत्री उनसे मिलने के लिए पहुंचे। मुख्यमंत्री आवास के पदाधिकारियों ने बताया है कि 95 विधायकों ने गहलोत को समर्थन का पत्र दिया है, जो पार्टी में एकजुटता को दिखाती है।

200 सदस्यीय राजस्थान विधानसभा में कांग्रेस के पास 107 विधायक हैं और अन्य 18 विधायकों का समर्थन उन्हें प्राप्त है, जिसको मिलाकर पार्टी के पास कुल 125 विधायकों का समर्थन है। BJP के 72 विधायक हैं और हनुमान बेनीवाल की आरएसएलपी के 3 विधायकों का समर्थन भी उनके पास है। 19 जून को राज्यसभा चुनाव में 2 कांग्रेस उम्मीदवारों को सरकार का समर्थन करने वाले सभी 125 विधायकों के वोट मिले थे।

पार्टी सूत्रों ने जानकारी दी है कि Congress के कुछ असंतुष्ट विधायक दिल्ली में डेरा डाले हुए हैं। जयपुर में राजस्व मंत्री हरीश चौधरी, श्रम मंत्री टीकाराम जूली, स्वास्थ्य मंत्री रघु शर्मा, प्रमोद जैन, सुभाष गर्ग और विधायकों सहित कई मंत्री CM आवास पहुंचे और मुख्यमंत्री गहलोत से मुलाकात की। उन्होंने मुख्यमंत्री के साथ वर्तमान राजनीतिक स्थिति पर चर्चा की।

सरकार के एक करीबी ने बताया है कि मंत्री और विधायक CM से मिल रहे हैं। पार्टी के अधिकांश विधायक और निर्दलीय विधायक कल से ही CM से मिल चुके हैं। 107 में से लगभग 95 विधायकों ने पार्टी और नेतृत्व को लिखित में अपना समर्थन दिया है। निर्दलीय विधायक बाबू लाल नागर ने कहा कि हम सभी को CM के नेतृत्व में विश्वास है और विश्वास व्यक्त करने के लिए मिल रहे हैं। विधायकों को भी गहलोत के नेतृत्व पर भरोसा है।

नागर ने कहा कि राजस्थान पुलिस के स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) ने उन्हें भी नोटिस दिया है। एसओजी इस संबंध में बयान दर्ज करने के लिए CM, डिप्टी CM और मुख्य सचेतक को पहले ही नोटिस जारी कर चुका है।

एसओजी ने दो मोबाइल नंबरों के इंटरसेप्शन के दौरान सामने आए तथ्यों के आधार पर राज्य सरकार को गिराने के प्रयासों के संबंध में शुक्रवार को एक FIR दर्ज की थी। सूत्रों ने दावा किया कि SOG ने सभी निर्दलीय विधायकों को नोटिस जारी कर बयान दर्ज कराने को कहा है।

इस बीच, Congress सरकार ने खुद को 3 निर्दलीय विधायकों- खुशवीर सिंह, ओमप्रकाश हुडला और सुरेश टाक, जिनके नाम भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो द्वारा पंजीकृत प्रारंभिक जांच (पीई) में है। उन पर BJP की ओर से अन्य विधायकों को पैसे देने के मामले में आरोपी बनाया गया है। Congress नेता का कहना है कि सरकार अब उन्हें समर्थक नहीं मानती है।

मुख्यमंत्री Ashok Gehlot ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस आयोजित कर अपनी सरकार को गिराने की कोशिश के BJP नेतृत्व को दोषी ठहराए जाने के बाद शनिवार से राजनीतिक संकट शुरू हुआ था। BJP ने इस आरोप का खंडन किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *