NOTA Used in Bihar

बिहार में 7 लाख लोगों ने किया NOTA का इस्तेमाल

देश

बिहार विधानसभा चुनावों में करीब सात लाख लोगों ने नोटा के विकल्प का इस्तेमाल किया। चुनाव आयोग द्वारा मंगलवार रात जारी आंकड़ों में यह जानकारी दी गई, तब तक सभी परिणामों की घोषणा नहीं हुई थी। आयोग के अनुसार फिलहाल 6,89,135 लोगों ने NOTA विकल्प का इस्तेमाल किया है। ये संख्या कुल मतदाताओं की करीब 1.69 % है। राज्य में ऐसी कई सीटें हैं जहां NOTA को प्रत्याशियों के जीत के अंतर से ज्यादा वोट प्राप्त हुए।

मालूम हो कि इस विकल्प की शुरुआत इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) में 2013 में की गई थी। सितंबर, 2013 में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद आयोग ने EVM में अंतिम विकल्प के तौर पर NOTA का बटन जोड़ा था। SC के आदेश से पहले जो लोग किसी भी प्रत्याशी को वोट नहीं देना चाहते थे, उनके पास एक फार्म भरने का विकल्प होता था जिसे फार्म 49-ओ कहा जाता था, लेकिन इसे भरने से मतदाता की गोपनीयता भंग होती थी।

2015 में बिहार में विधानसभा चुनाव में जनता ने जमकर नोटा विकल्प का इस्तेमाल किया था। चुनाव में करीब साढ़े 9 लाख लोगों ने नोटा का प्रयोग किया था जो कि कुल वोट शेयर का 2.5 % था। चुनावों में 21 सीटें ऐसी थीं, जहां नोटा जीत के अंतर से अधिक रहा था। इसमें से 7 सीटें BJP ने, 6 RJD ने, 5 जदयू ने, 2 कांग्रेस ने और 1 CPI (एमएल) (एल) ने जीती थी। वहीं 38 सीटों पर NOTA तीसरे नंबर पर था तो 65 सीटों पर नोटा चौथे नंबर पर था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *