Ayodhya Ram Mandir

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी केवल 32 सेकेंड में करेंगे राम मंदिर की नींव पूजा

NEWS Top News

अयोध्या- रामनगरी अयोध्या में करीब 5 सौ वर्ष बाद भगवान श्रीराम के मंदिर बनने की हर घड़ी का लोगों को बहुत ही बेसब्री से इंतजार है। इस मंदिर का भूमि पूजन 3 अगस्त से शुरू हो जाएगा। जिसको उत्तर के साथ दक्षिण भारत के पंडित भी कराएंगे।

अयोध्या में करीब 5 सौ वर्ष बाद बनने जा रहे मंदिर का भूमि पूजन 3 अगस्त से होगा। जिसमें काशी के विद्वान अनुष्ठान करेंगे। श्रीरामजन्म भूमि मंदिर के नींव पूजन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को 5 अगस्त को सिर्फ 32 सेकंड का समय दिया जाएगा। भगवान श्रीराम का जन्म अभिजीत मुहूर्त में हुआ था। इसी कारण नींव पूजन भी अभिजीत मुहूर्त में ही होगा। यह शुभ मुहूर्त ज्योतिष शास्त्र में उत्तर-दक्षिण के संगम से निकला है। इसी अभिजीत मुहूर्त में 500 साल की कोशिशों को साकार करने की शुरुआत होगी।

उत्तर भारत में पांच अगस्त को भाद्रपद और दक्षिण भारत में श्रावण मास है। मुहूर्त का समय 5 अगस्त को मध्याह्न 12 बजकर 15 मिनट के आसपास है। इस मुहूर्त को काशी के प्रकांड विद्वान गणेश्वर शास्त्री द्रविड़ ने निकाला है। अभिजीत मुहूर्त में नींव पूजन सुनिश्चित करने के लिए काशी विद्वत परिषद के मंत्री प्रो. राम नारायण द्विवेदी के साथ 3 आचार्य निगाह रखेंगे। 5 अगस्त को दोपहर 12 बजकर 15 मिनट 15 सेकंड के ठीक बाद के 32 सेकेंड अहम होंगे। इन्हीं 32 सेकेंड के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भीतर भव्य और दिव्य श्रीराम मंदिर की पहली ईंट रखेंगे। यह ईंट 35 से 40 किलोग्राम चांदी की होगी। यहां पर ज्योतिष शास्त्र के लिहाज से राहु और केतु समेत अन्य दोष मिटाने के लिए चांदी की ईंट रखी जाएगी।


देश के अलग-अलग राज्यों से आए वैदिक आचार्य तीन अगस्त से नींव पूजन शुरू करेंगे। शुरुआत महा-गणेश पूजन से होगी। पहले दिन यानी 3 अगस्त को महा-गणेश पूजन के साथ पंचांग पूजन भी होगा। दूसरे दिन 4 अगस्त को सूर्य सहित नवग्रह की पूजा होगी। पांच अगस्त को वरुण, इंद्र आदि देवताओं के साथ पूजा होगी। 5 अगस्त को नींव पहले से खोदी गई होगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सिर्फ आधे मिनट में नींव पूजन की सामग्री को संकल्प के साथ स्पर्श करते हुए नींव में स्थापित करना होगा।

राम मंदिर के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास ने कहा कि रामलला के मंदिर का नींव पूजन है, इसलिए रामानंदी परंपरा से ही पूजन होगा। 5 शिलाओं नंदा, जया, भद्रा, रिक्ता व पूर्णा की पूजा की जाएगी। 4 शिलाएं 4 दिशाओं में और एक बीच में रखी जाती है।
खास लोग ही आमंत्रित

श्रीरामजन्म भूमि मंदिर के नींव पूजन में खास लोगों को ही आमंत्रित किया जा रहा है। इनमें पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी, पूर्व मंत्री डॉ. मुरली मनोहर जोशी, विनय कटियार, उमा भारती समेत देश के सभी राज्यों के मुख्यमंत्री भी शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *