पेपर लीक के चिंटू-पिंटू कौन? जो NEET की ‘कलंक कथा’ के निकले बड़े चेहरे

नीट पेपर लीक मामले में रोज नए-नए खुलासे हो रहे हैं. इसी कड़ी में एक और जानकारी सामने आई है. पता चल गया है कि नीट का पेपर सबसे पहले सॉल्वर गैंग के किस किरदार के पास पहुंचा था. ये भी पता चल गया है कि पटना के अलग-अलग ठिकानों से अभ्यर्थियों को लेकर लर्न प्ले स्कूल कौन पहुंचा था.

नीट पेपर लीक मामले में कुछ नए राज खुलकर सामने आने लगे हैं. पेपर लीक मामले में सबसे अहम सवाल ये है कि पेपर कहां से आया और किसको मिला. अब ये खुलासा हो चुका है कि नीट का पेपर सबसे पहले सॉल्वर गैंग के चिंटू के पास आया था. चिंटू और पिंटू संजीव मुखिया के बेहद करीबी हैं. चिंटू, पिंटू ही पटना के अलग-अलग ठिकानों से अभ्यर्थियों को लेकर लर्न प्ले स्कूल पहुंचे थे.

चिंटू उर्फ बलदेव और पिंटू ने ही लर्न प्ले स्कूल में सारी व्यवस्था की थी. 5 मई की सुबह करीब नौ बजे चिंटू के ही मोबाइल पर प्रश्न पत्र और उत्तर आए. चिंटू ने प्रश्न पत्र और उत्तर प्रिंट कर अभ्यर्थियों को रटने के लिए दे दिया. इसके बाद सभी को कार से अपनी निगरानी में परीक्षा केंद्र तक छोड़ने की जिम्मेदारी भी चिंटू और पिंटू की ही थी.

चिंटू-पिंटू की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही ईओयू

चिंटू नालंदा के गुलहरिया बिगहा का रहने वाला है. संजीव मुखिया भी पास के ही नागरनौसा का रहने वाला है. संजीव मुखिया ने चिंटू और पिंटू को पटना की सारी जिम्मेदारी दे रखी थी. अब आर्थिक अपराध इकाई की एसआईटी संजीव मुखिया के साथ-साथ चिंटू और पिंटू की गिरफ्तारी के लिए भी छापेमारी कर रही है. इनके साथ राकेश रंजन उर्फ रॉकी, नीतीश यादव, नीतीश पटेल भी इस पेपर लीक कांड में शामिल हैं. इन लोगों ने पिछले साल भी नीट पेपर लीक का प्रयास किया था.

तेजस्वी से जुड़ा एक अधिकारी सिकंदर के संपर्क में था

इस मामले में बिहार के डिप्टी सीएम विजय कुमार सिन्हा ने शुक्रवार को कहा कि गिरफ्तार मुख्य आरोपी का राजद नेता तेजस्वी यादव से जुड़े एक अधिकारी के साथ संदिग्ध संबंधों की सीबीआई से कराने की सिफारिश के लिए मुख्यमंत्री नीतीश से अनुरोध किया जाएगा. तेजस्वी से जुड़ा एक अधिकारी सिकंदर प्रसाद यादवेंदु के साथ लगातार संपर्क में था. सीबीआई जैसी किसी भी स्वतंत्र एजेंसी से जांच की सिफारिश करना सीएम का विशेषाधिकार है.

मैंने कुछ सबूत भी साझा किए थे

डिप्टी सीएम ने कहा, मैंने गुरुवार को मीडिया के सामने सब कुछ रखा था. मैंने कुछ सबूत भी साझा किए थे. अब ये बातें सार्वजनिक हैं. उम्मीद है कि राज्य पुलिस की आर्थिक अपराध इकाई आरोपी का राजद नेता के अधिकारियों के साथ संबंध की भी जांच करेगी.

बिहार के इन 2 हजार लोगों का धर्म क्या है? विश्व का सबसे अमीर क्रिकेट बोर्ड कौन सा है? दंतेवाड़ा एक बार फिर नक्सली हमले से दहल उठा SATISH KAUSHIK PASSES AWAY: हंसाते हंसाते रुला गए सतीश, हृदयगति रुकने से हुआ निधन India beat new Zealand 3-0. भारत ने किया कीवियों का सूपड़ा साफ, बने नम्बर 1