भारतीय सेना ने जारी की 89 ऐप्स की लिस्ट, जवानों को निर्देश- तुरंत करें डिलीट

NEWS Top News

भारत में 59 चीनी ऐप (App) पर पाबंदी लगने के बाद भारतीय सेना ने संदिग्ध ऐप्स के खिलाफ कड़ा कदम उठाया है। सेना के सूत्रों ने बताया कि 89 ऐप्स की लिस्ट जारी कर सैनिकों समेत सेना के हर विभाग से जुड़े कर्मियों को स्पष्ट आदेश दिया गया है कि अगर उनके मोबाइल में इनमें से कोई भी ऐप है तो उसे अविलम्ब डिलीट करें।

सेना की तरफ से जारी लिस्ट में TIKTOK जैसे चाइनीज ऐप से लेकर फेसबुक, इंस्टाग्राम, ट्रूकॉलर जैसे दूसरे मशहूर विदेशी ऐप तक शामिल हैं। इतना ही नहीं, सैन्यकर्मियों को अब अपने फोन से टिंडर और कूच सर्फिंग जैसे डेटिंग (Dating) ऐप भी डिलीट करने होंगे। इसके साथ ही, डेली हंट (DAILYHUNT) जैसे न्यूज ऐप को भी तुरंत डिलीट करने को कहा गया है।

दरअसल, सेना ने उन्हीं ऐप्स से दूरी बनाने का आदेश जारी किया है जिन पर कभी-न-कभी पर्सनल डेटा चोरी के आरोप लगे हैं। वह चाहे दुनियाभर में काफी लोकप्रिय सोशल मीडिया ऐप फेसबुक ही क्यों ना हो। 2018 में कैंब्रिज ऐनालिटिका केस का रहस्योद्घाटन तो याद ही होगा। ब्रिटेन की इस राजनीतिक परामर्शदाता कंपनी ने यह कहकर पूरी दुनिया में सनसनी मचा दी थी कि फेसबुक ने अपने 8 करोड़ 70 लाख यूजर्स का निजी डेटा अनुचित तरीके से साझा किया।

इधर, चीन पर विभिन्न ऐप्स के जरिए विभिन्न देशों की अति गोपनीय जानकारियां चुराने का आरोप लगता रहा है। इसी कारण भारत ने भी टिकटॉक समेत कुल 59 चीनी ऐप को अपने यहां प्रतिबंधित करने जैसा बड़ा कदम उठाया। भारत सरकार के फैसले के बाद इन ऐप्स को गूगल प्ले से भी हटा दिया गया है। हालांकि, जिन स्मार्टफोन्स में ये ऐप पहले से मौजूद हैं, उनमें ये काम करते रहेंगे। इसलिए, सेना को अपने महकमे से जुड़े सभी कर्मियों को ऐसे सभी ऐप्स डिलीट करने का ताजा आदेश जारी करना पड़ा।

विभिन्न विदेशी ऐप्स पर भारत सरकार के बाद सेना की तरफ से उठाए गए कठोर कदमों का एक और मायने है। वह यह कि अब भारत ऐप्स के मामले में आत्मनिर्भरता की तरफ तेजी से कदम बढ़ाने जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी देशवासियों को ऐप चैलेंज देकर यही जताने की कोशिश की है। उन्होंने देश को ऐप्स के मामले में आत्मनिर्भर बनाने का आह्वान करते हुए कहा कि भारत में वैश्विक स्तर पर सर्वोत्तम ऐप बनाने की पूरी क्षमता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *