हरिद्वार महाकुंभ, सिस्टम, इंतजाम, सब धड़ाम! अब निरंजनी अखाड़े ने की 17 अप्रैल को हरिद्वार कुंभ मेला समापन की घोषणा

Corona Updates NEWS उत्तराखंड देश धर्म

हरिद्वार में कोविड-19 संक्रमण के बढ़ते प्रसार के चलते पंचायती अखाड़ा श्री निरंजनी ने 17 अप्रैल को कुंभ मेला समापन की घोषणा कर दी है। अखाड़े के कुंभ मेला प्रभारी एवं सचिव महंत रविंद्रपुरी ने कहा कि कोरोना का प्रसार तेज हो गया है। साधु संत और श्रद्धालु इसकी चपेट में आने लगे हैं। निरंजनी अखाड़े के साधु संतों की छावनियां 17 अप्रैल को खाली कर दी जाएंगी। बाकी अखाड़ों को भी एहतियातन कदम उठाते हुए कोविड से बचाव के प्रति ध्यान देना चाहिए।

महाकुंभ में अभी तक अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरी समेत करीब 12 संत संक्रमित आ चुके हैं। कई श्रद्धालु भी संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं। अन्य अखाड़ों के संत भी संक्रमण की जद में हैं।

बार-बार आगाह करने के बावजूद जैसी आशंका थी, हरिद्वार महाकुंभ कोरोना स्प्रेडर इवेंट बन सकता है. महाकुंभ में शाही स्नान शुरू होने के पहले और शाही स्नान के बाद सामने आए कोरोना संक्रमितों के आंकड़े सरकार और सिस्टम ही नहीं, सबके लिए चिंता पैदा करने वाले हैं. अब तक जो आंकड़े सामने आए हैं, उसके मुताबिक अखाड़ों से जुड़े करीब दो दर्जन संत और 500 से ज्यादा श्रद्धालु जांच में संक्रमित पाए गए हैं. यह आंकड़े महज कुछ हजार लोगों की जांच के बाद के हैं, जबकि महाकुंभ में शाही स्नान पर 31 लाख से ज्यादा लोगों के स्नान का दावा किया गया है. बुधवार को भी लगभग 14 लाख लोगों ने कुंभ-स्नान किया. जरा सोचिए कि महाकुंभ में कितनी बड़ी संख्या में पहुंचे श्रद्धालुओं में कितने लोग संक्रमित होंगे और कितने लोगों के संपर्क में आए होंगे.

READ MORE:   आप का दिन मंगलमय हो,आज का राशिफल 8 सितंबर 2020

यह सही है कि हर धार्मिक आयोजन का अपना महत्व होता है. महाकुंभ के प्रति तो भारतीय जनमानस में अत्यधिक आस्था है. लेकिन कोरोना जैसी महामारी या बीमारी धर्म नहीं देखतीं. महामारी के इस दौर में मंदिर, मस्जिद से लेकर स्कूल-कॉलेज, धार्मिक, सामाजिक आयोजन तक सब कुछ बंद हैं. नदियों-तालाबों में नहाने तक पर रोक लगी है. शादी-ब्याह, मौत, मय्यत में 10-20 लोगों से ज्यादा शामिल पर पाबंदी है. ऐसे दौर में हरिद्वार में महाकुंभ, जहां हर शाही स्नान पर लाखों की भीड़ जुटनी है, वहां आयोजन से पहले महामारी की भयावहता पर विचार जरूर करना था. लेकिन इसके उलट महाकुंभ में कोविड नियमों की धज्जियां उड़ती नजर आ रही हैं.

बता दें कि केन्द्र सरकार ने भी उत्तराखंड सरकार को आगाह किया था कि हरिद्वार कुंभ कोरोना स्प्रेडर साबित हो सकता है, लेकिन राज्य के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत को विश्वास था कि वह पूरे महाकुंभ को सफलता के साथ संपन्न कराने में कामयाब होंगे. उन्होंने कोविड प्रोटोकाल के दायरे में महाकुंभ में लाखों श्रद्धालुओं की भीड़ को कोरोना स्नान कराने का दावा भी किया था. उन्होंने महाकुंभ की तुलना 2020 में दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज की घटना से करने वालों की आलोचना भी की और कहा कि मरकज हॉल के अंदर था, जबकि कुंभ खुले में हो रहा है. हरिद्वार ही नहीं, ऋषिकेश से लेकर नीलकंठ तक फैला है, गंगा मैया किसी को कोरोना नहीं होने देंगी.

महाकुंभ में पहले ही शाही स्नान पर सरकार के दावे से उलट तस्वीर दिखी. कोरोना प्रोटोकाल की धज्जियां उड़ते पूरे देश ने देखी. स्नान के दौरान व्यवस्थाएं देख रहे आईजी ने हाथ खड़े कर दिए कि यहां किसी से मास्क लगाने और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए नहीं कहा जा सकता, क्योंकि कोई किसी की नहीं सुन रहा. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की टेस्ट, ट्रेसिंग, ट्रीटमेंट की सीख को पूरी तरह से भुला दिया गया. श्रद्धालु खुद सोशल डिस्टेंसिंग के प्रति लापरवाह दिखे. श्रद्धालुओं को संभालने को पुलिस की गुहार पर राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ वॉलिंटियर भी लगे, लेकिन जैसे ही शाही स्नान का वक्त आया, सारा सिस्टम, व्यवस्थाएं, इंतजाम ध्वस्त हो गए. सरकार को थर्मल स्क्रीनिंग और मास्क तक के लिए कड़ी मशक्कत करना पड़ रही है.

READ MORE:   लॉकडाउन के बीच घर पर कैसे करें इबादत

महाकुंभ में सबसे बड़ा कोरोना विस्फोट रविवार को हुआ, जब सोमवती अमावस्या पर शाही स्नान से एक दिन पहले संतों और श्रद्धालुओं की कोरोना जांच हुई. इस जांच के दौरान महाकुंभ में सबसे ज्यादा 401 लोग कोरोना पॉजिटिव निकले. इसमें अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के महंत नरेंद्र गिरी, जूना अखाड़े के नितिन गिरी, बैरागी, किन्नर, संन्यासी, वैष्णव और निरंजन अखाड़े के संतों सहित करीब दो दर्जन बड़े संत शामिल थे. अब भी कई लोगाें की रिपोर्ट आनी बाकी है. कोरोना से बचाव की दवा लॉन्च करने वाले बाबा रामदेव के पतंजलि पीठ का भी करीब आधा दर्जन स्टाफ कोरोना संक्रमित है. रविवार रात से सोमवार शाम तक 18169 श्रद्धालुओं की कोरोना जांच की गई, बुधवार सुबह जो रिपोर्ट आई, उसमें 102 तीर्थयात्रियों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई. इसके बाद से लगातार नए आंकड़े सामने आ रहे हैं.

हरिद्वार महाकुंभ में श्रद्धालुओं के लिए सरकार 16-17 घाट बना सकती है. हर की पैड़ी घाट पर साधु-संतों के सुरक्षित स्नान के लिए स्नाइपर तैनात किए जा सकते हैं, लेकिन संक्रमितों की भीड़ को आप स्नान के लिए पानी में उतरने से कैसे रोकेंगे? कुंभ में हर अखाड़े का डेरा है. इन अखाड़ों में और गंगा में स्नान के लिए लाखों श्रद्धालु रोज हरिद्वार पहुंच रहे हैं. यह श्रद्धालु मध्यप्रदेश, पंजाब, केरल, हरियाणा, राजस्थान, गुजरात, उत्तरप्रदेश, छ्त्तीसगढ़ सहित उन राज्यों से हैं, जहां कोरोना संक्रमण तेज है. क्या इन राज्यों के लोग महाकुंभ में कोरोना के स्प्रेडर साबित नहीं होंगे? महाकुंभ से संक्रमितों की टोलियां जब अपने प्रदेश, शहर, घर लौटेंगी, तो क्या इनसे कोरोना फैलने का खतरा नहीं होगा? सिस्टम से कोरोना से बचाव के इंतजाम की अपेक्षा ही की जा सकती है.

READ MORE:   आइये जानते हैं इम्युनिटी सिस्टम बढ़ाने में नींबू से होने वाले फायदे…

सिस्टम को पिछले 8-10 दिन से आगाह किया जा रहा था कि महाकुंभ में सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क लगाना, सैनेटाइजेशन सुनिश्चित करवाइए, ताकि कोरोना को फैलने से रोका जा सके, लेकिन किसी ने नहीं सुनी. कोई सिस्टम ही नहीं बना. जिसे कोरोना है, वह एक-दूसरे को संक्रमण बांटते महाकुंभ में घूम रहे हैं. आश्चर्य मत करिए देश में कोरोना से संक्रमितों का आंकड़ा रोजाना 2 लाख तक भी पहुंच सकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *