महागठबंधन पर एनडीए की चुनावी तैयारी भारी

elections NEWS देश बिहार राजनीति

बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar Election 2020)जैसे जैसे नजदीक आ रहा है वैसे वैसे सभी दल अपनी अपनी तैयारियों में लग गए है ऐसे में जहॉ एनडीए(NDA) में शामिल भाजपा और जेडीयू वर्चुवल रैली के द्वारा अपनी तैयारियों में जोर शोर से लगा हुआ है।भाजपा(BJP) के प्रभारी भूपेन्द्र यादव पटना में जमे हुए है वो क्षेत्रीय सम्मेलन कर रहे है। जदयू(JDU) और लोजपा(LJP) भी अपनी तैयारियों में मजबूती से लगे हुए है।एनडीए में शामिल दल तैयारियों में एनडीए से आगे दिख रहे है।

वही महागठबंधन पूरी तरह से बिखरा हुआ दिख रहा है।लालू की कमी स्पष्टतया दिख रही है।तेजस्वी पूरी तरह फेल दिखई दे रहे है हर फ्रंट पर।ना तो अपने पार्टी के अंदर वरिष्ठ नेताओं को खुश रख पा रहे है और ना ही गठबंधन की अगुवाई कर पा रहे है।अदूरदर्शिता का हद है कि पार्टी के वरिष्ठतम नेता रघुवंश प्रसाद सिंह जैसे साफ सुधरी छवि वाले नेता के धूर विरोधी रहे दागी छवि वाले रामा सिंह को पार्टी में शामिल कराने की कोशिश की गई जिसके बाद रघंवंश बाबू ने इस्तीफा दे दिया था जिसको लालू यादव ने हस्तक्षेप करके रोका था और रामा सिंह की इंटी पर रोक लगी थी।

अगर यही स्थिति रही तो ये कहना श्रेयस्कर हो सकता है कि एनडीए फिर से सत्ता पर काबिज होने से कोई नही रोक सकता।महागठबंधन का सबसे बडा दल होने के नाते राजद(RJD) की ये जिम्मेवारी थी कि वो महागठबंधन में शामिल सभी छोटे बडे दलों के साथ सामंजस्य बनाए लेकिन यहॉ तो इसके उलट दलों के बीच संवादहीनता की स्थिति बनी हुई है।महागठबंधन में शामिल दूसरे सबसे बडे दल कांग्रेस(Congress) तेजस्वी को महागठबंधन का नेता और मुख्यमंत्री का उम्मीदवार मानने से इंकार कर रही है।वैसे भी विपक्ष के नेता के रूप में तेजस्वी सरकार को पुरजोर तरीके से घेरने में नाकाम रहे है।

कांग्रेस के प्रभारी शक्ति सिंह गोहिल अभी पटना में जमे हुए हैं और वे राबडी देवी से मुलाकात के अलावे सीपीआई(CPI) के कार्यालय भी उनके राज्य सचिव सत्यनारायण सिंह से मिलने पहुचे।गठबंधन की संभावनाओं पर चर्चा हुई।महागठबंधन के दूसरे घटक दल हम के मुखिया समन्वय समिति की मांग लंबे समय से कर रहे है लेकिन राजद उन्हे कोई तवज्जो नही दे रही है।छोटे दलों में रालोसपा(RLSP) और वीआईपी (VIP)की भी कोई पूछ नही दिख रही।ऐसे मे ऐसा प्रतीत हो रहा है कि एनडीए अपने मजबूती से ज्यादा महागठबंधन के कमजोरियों के वजह से फायदे में रहेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *