Farm laws withdrawn

कृषि कानून किसानों की भलाई के लिए लाए थे, देशहित में वापस ले लिए- पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने समाचार एजेंसी एएनआइ को दिए इंटरव्यू में कृषि कानूनों (Farm laws) पर खुलकर बात की। पीएम मोदी (PM Modi) ने बुधवार को कहा कि, केंद्र सरकार द्वारा किसानों के लाभ के लिए लाए गए तीन कृषि कानूनों (Farm laws) के विरोध में किसानों ने लगभग एक साल तक दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलन किया। लेकिन देश हित में तीनों कानूनों को वापस ले लिया गया। मैंने पहले भी यह कहा है कि किसानों के लाभ के लिए कृषि कानून (Farm laws) लाए गए थे, लेकिन अब देश के हित में वापस ले लिए गए हैं। मुझे नहीं लगता कि इसे अब और समझाया जाना चाहिए। भविष्य की घटनाओं से यह स्पष्ट हो जाएगा कि क्यों ये कदम आवश्यक थे।


प्रधानमंत्री ने कहा कि, उन्होंने हमेशा किसानों के हित के लिए काम किया है, और उन्होंने हमेशा उनका समर्थन किया है। उन्होंने कहा, मैं वह हूं जो किसानों का दिल जीतने की यात्रा पर है। मैं सीमांत जोत वाले किसानों के दर्द को समझता हूं। मैंने हमेशा उनका दिल जीतने की कोशिश की है। प्रधानमंत्री ने कहा, मैंने देश भर के किसानों का दिल जीता है, और उन्होंने हमेशा मेरा समर्थन किया है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कृषि बिलों पर किसानों के साथ बातचीत को लेकर पूछे गए सवाल का जवाब देते हुए कहा, संवाद और चर्चा लोकतंत्र का आधार है। पीएम मोदी (PM Modi) ने कहा, लोकतंत्र में देश के लोगों के साथ संवाद में शामिल होना जनप्रतिनिधियों का प्राथमिक कर्तव्य है। हमारी सरकार हमेशा इन चर्चाओं में लगी रही है, और हम इसे रोकने के पक्ष में नहीं हैं। पीएम मोदी (PM Modi) ने कहा कि, उनका मानना है कि इस देश के आम नागरिक के पास ज्ञान का खजाना है, और सरकार उनसे प्राप्त फीडबैक पर काम करना चाहती है। किसी भी मुद्दे पर चर्चा कभी नहीं रुकनी चाहिए। मेरा मानना है कि लोगों को मेरी राय और मेरी सरकार की राय सुननी चाहिए और बातचीत हमेशा चलती रहनी चाहिए। जैसे हम बजट बनाने से पहले चर्चा करते हैं। हम नहीं मानते कि दुनिया का सारा ज्ञान ‘ज्ञान बाबाओं’ और राजनेताओं के पास है।


बता दें कि, इन तीनों कृषि कानूनों (Farm laws) का मुख्य रूप से पंजाब और हरियाणा के किसानों ने नवंबर 2020 से दिल्ली सीमा पर कानूनों का विरोध करना शुरू कर दिया था। किसान नेताओं और केंद्र सरकार के बीच कई दौर की बातचीत हुई। हालांकि, 19 नवंबर 2021 को प्रधानमंत्री मोदी ने घोषणा कि, केंद्र कृषि कानूनों (Farm laws) को वापस लेगा। प्रधानमंत्री की घोषणा के बाद, संयुक्त किसान मोर्चा के नेतृत्व में जो संगठन कृषि कानूनों (Farm laws) का विरोध कर रहे थे। उन्होंने 9 दिसंबर, 2021 को अपने साल भर के आंदोलन को स्थगित करने की घोषणा की। 23 नवंबर, 2021 को शुरू हुए संसद के शीतकालीन सत्र के दौरान आवश्यक बिल पारित होने के बाद कानूनों को निरस्त कर दिया गया था।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

India beat new Zealand 3-0. भारत ने किया कीवियों का सूपड़ा साफ, बने नम्बर 1 Kisi Ka Bhai Kisi Ki Jaan | शाहरुख की पठान के साथ सलमान के टीजर की टक्कर, पोस्टर रिवील 200करोड़ की ठगी के आरोपी सुकेश ने जैकलीन के बाद नूरा फतेही को बताया गर्लफ्रैंड, दिए महँगे गिफ्ट #noorafatehi #jaqlein #sukesh क्या कीवी का होगा सूपड़ा साफ? Team India for third ODI against New Zealand #indiancricketteam KL Rahul Athiya Wedding: Alia, Neha, Vikrant के बाद राहुल अथिया ने की बिना तामझाम के शादी