इंडस्ट्रियल ऑक्सिजन से कोरोना मरीजों को तो मिली राहत, पर ब्लैक फंगस को मिली ‘जान’

Corona Updates NEWS देश हेल्थ

ऑक्सिजन की मारामारी को देखते हुए बड़ी संख्या में तीमारदारों ने अपने मरीजों के लिए मेडिकल ऑक्सिजन नहीं मिलने पर इंडस्ट्रियल ऑक्सिजन का प्रयोग किया है। जबकि डॉक्टरों का कहना है कि इंडस्ट्रियल ऑक्सिजन मरीज के फेफड़े के लिए खतरनाक है।

इंडस्ट्रियल ऑक्सिजन का प्रयोग किए जाने की वजह से भी ब्लैक फंगस होता है। क्योंकि यह मेडिकल ऑक्सिजन जितना शुद्ध नहीं होता है। साथ ही इसके सिलिंडर बहुत साफ सुथरे नहीं होते हैं। जंग लगे हुए सिलिंडर होते हैं लेकिन तीमारदार कोरोना मरीज को ऑक्सिजन देने के लिए इसका ध्यान नहीं रखे।

इंडस्ट्री में जो ऑक्सिजन प्रयोग होती है उसमें ऑक्सिजन के अलावा अन्य गैसें भी होती हैं जो फेफड़े के लिए घातक होती हैं। इंडस्ट्री के ऑक्सिजन सिलिंडर साफ-सुथरे नहीं होते हैं। इस आपाधापी में लोगों ने सिलिंडर का ध्यान नहीं रखा, जहां से मिला उसी में गैस भरवा ली।

ऑक्सिजन को बाकी गैसों से अलग करके तरल ऑक्सिजन के रूप में जमा करते हैं। इसकी शुद्धता 99.5% होती है। इसे विशाल टैंकरों में जमा किया जाता है। यहां से वे अलग टैंकरों में एक खास तापमान पर डिस्ट्रिब्यूटरों तक पहुंचाते हैं।

डिस्ट्रिब्यूटर के स्तर पर तरल ऑक्सिजन को गैस के रूप में बदला जाता है और मेडिकल ऑक्सिजन सिलिंडर में भरा जाता है, जो सीधे मरीजों के काम में आता है। जबकि इंडस्ट्रियल ऑक्सिजन की शुद्धता 93 से 95 फीसदी के बीच होती है। घर पर लोगों ने बिना मेडिकल एक्सपर्ट के इसका प्रयोग किया। इसलिए इससे भी ब्लैक फंगस के मामले बढ़े हैं। कोरोना मरीज पहले से ही स्टेरायड ले चुका होता है।

जब ऑक्सिजन की मारामारी थी तो लोग गैस भरवाने के लिए हाइड्रोजन, नाइट्रोजन और कार्बन डाई आक्साइड के सिलिंडर तक ले कर पहुंचते थे, जो मरीज के लिए काफी घातक होना था। लेकिन तीमारदार इस बात को समझ नहीं पा रहे थे। जिसकी वजह से गंदगी के कारण ब्लैक फंगस को पनपने का पूरा मौका मिल गया।

गाजियाबाद में ब्लैक फंगस का असर धीरे-धीरे कम हो रहा है। जिले में अब तक इसके 60 मरीज सामने आए हैं, जिनमें से 30 को अस्पताल से छुट्टी मिल चुकी है। इनमें से कुछ का ओपीडी के जरिए उपचार चल रहा है। मंगलवार को ब्लैक फंगस का नया मामला सामने आया।

स्वास्थ्य अधिकारी के अनुसार इनमें से 9 मरीज यशोदा में, 10 मरीज हर्ष पॉली क्लिनिक, 7 मैक्स और 2 मरीजों का पल्मोनिक अस्पताल में उपचार चल रहा है। डॉ. बीपी त्यागी ने बताया कि उनके पास 23 मरीज आए थे, जिनमें से 12 मरीजों को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है। एक मरीज की मौत हो गई थी। दवाओं की किल्लत बनी हुई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *