महाकाल मंदिर में मध्य प्रदेश के बाहर के श्रद्धालुओं को अगले आदेश तक प्रवेश नहीं

Corona Updates NEWS Top News धर्म मध्य प्रदेश

उज्जैन में कोरोना मरीजों की लगातार बढ़ती संख्या को देखते हुए शनिवार को मंदिर प्रबंधन समिति ने दर्शन के लिए आने वाले श्रद्धालुओं को लेकर अहम निर्णय लिया है। अब केवल मध्य प्रदेश के निवासी ही बाबा महाकाल के दर्शन कर पाएंगे। बाहर से आने वालों को मंदिर में प्रवेश नहीं दिया जायेगा। टोल फ्री और ऑनलाइन बुकिंग करने वाले बाहर के भक्तों को भी इसकी सूचना दी जाएगी। परिस्थितियों के अनुसार आगे भी निर्णय लिया जाएगा।

10 से 12 दिनों में फिर से काेरोना मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ है। पड़ताल करने पर सामने आया कि इनमें से अधिकांश वे लोग हैं, जो बाहर से आए हैं या फिर बाहर से आने वालों के संपर्क में हैं। प्रदेश के बाहर के श्रद्धालुओं को बाबा के अभी दर्शन अनुमति नहीं होगी। जो ऑनलाइन बुकिंग करवा रहे हैं, उन्हें अब मैसेज मिलेगा कि आप यदि मध्य प्रदेश के बाहर के हैं तो अभी बुकिंग न करें। टोल फ्री नंबर पर कॉल आने पर भी उन्हें बताया जाएगा।

लाॅकडाउन के 4 चरण और अनलॉक-1 के 7 दिन बाद यानी लॉकडाउन के 79 दिन बाद 8 जून को महाकाल मंदिर दर्शनार्थियों के लिए खुला था। दर्शन के लिए एक दिन पहले अनुमति लेनी होती है। तड़के 4 बजे होने वाली भस्मारती और दिन में होने वाली पूजन-आरती और रात की शयन आरती में श्रद्धालुओं को प्रवेश पर रोक है। 65 साल व इससे ज्यादा उम्र के बुजुर्गों, शुगर, ब्लड प्रेशर, दमा जैसी गंभीर बीमारी वाले मरीजों, 10 साल से छोटे बच्चों और गर्भवती महिलाओं को प्रवेश नहीं दिया जा रहा है।

महाकाल दर्शन की यह व्यवस्था

मंदिर के मोबाइल ऐप पर या टोल फ्री नंबर 18002331008 पर एक दिन पहले अनुमति लेना होती है।
श्रद्धालुओं को जूते-चप्पल गाड़ी में या पार्किंग में बने जूता स्टैंड पर स्वयं की जिम्मेदारी पर रखना होता है।
महाकालेश्वर के दर्शन के अलावा परिसर के अन्य मंदिरों में प्रवेश बंद।
मंदिर में मोबाइल, बैग, पूजन सामग्री, जल-दूध व अन्य किसी भी तरह का सामान लेकर जाने पर मनाही।
एक मोबाइल नंबर पर सप्ताह में एक बार ही कुल 5 लोगों की अनुमति।
श्रद्धालुओं के लिए मास्क पहनना अनिवार्य है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *