PM Modi Global Covid Summit

2nd Global Covid-19 Summit: पीएम मोदी ने कहा-डब्ल्यूटीओ और डब्ल्यूएचओ में सुधार करना जरूरी

2nd Global Covid-19 Summit: भारत ने एक बार अंतरराष्ट्रीय मंच पर विश्व व्यापार संगठन (WTO) और विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) जैसी बहुराष्ट्रीय एजेंसियों में बड़े सुधार की मांग दोहराई है। गुरुवार को कोरोना (Corona) पर दूसरे वैश्विक वर्चुअल सम्मेलन को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने स्वास्थ्य क्षेत्र की भावी चुनौतियों का सामना करने के लिए वैश्विक स्तर पर और ज्यादा समन्वय की जरूरत को बताते हुए कहा कि हमें एक मजबूत सप्लाई चेन भी स्थापित करनी होगी और वैक्सीन व दवाइयों तक सभी की पहुंच बनाने का काम करना होगा। पीएम मोदी (PM Modi) अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडन (Joe Biden) के आमंत्रण पर इस वर्चुअल सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। इसके पहले यह सम्मेलन 22 सितंबर, 2021 को आयोजित हुआ था जिसमें भी पीएम मोदी (PM Modi) ने हिस्सा लिया था।


पीएम मोदी (PM Modi) ने कहा, ‘डब्ल्यूटीओ, खास तौर पर ट्रिप्स (बौद्धिक संपदा नियमों को लेकर अंतरराष्ट्रीय समझौता) के नियमों को ज्यादा लचीला बनाने की जरूरत है। डब्ल्यूएचओ में अनिवार्य तौर पर सुधार होना चाहिए और इसे ज्यादा मजबूत बनाने की जरूरत है ताकि वैश्विक स्वास्थ्य ढांचे को ज्यादा उपयोगी बनाया जा सके।’

पीएम मोदी (PM Modi) की यह मांग इसलिए भी महत्वपूर्ण है कि भारत दूसरे देशों को खाद्य आपूर्ति बढ़ाने पर जोर दे रहा है। कोरोना (Corona) महामारी और यूक्रेन-रूस युद्ध के बाद दुनिया में खाद्य संकट पैदा होने के आसार हैं। पीएम से पहले विदेश मंत्री एस जयशंकर ने वैश्विक मंचों पर इस मुद्दे को उठाया है कि भारत दुनिया को खाद्यान्न संकट से लड़ने में मदद करने को तैयार है लेकिन पहले डब्ल्यूटीओ को अपने नियम बदलने होंगे।


भारत अहम भूमिका निभाने को तैयार

पीएम (PM) ने डब्ल्यूएचओ (WHO) की तरफ से वैक्सीन व दवाइयों को मंजूरी देने की प्रक्रिया को कारगर बनाने की जरूरत भी बताई। यह इसलिए जरूरी है कि ताकि सप्लाई चेन को सुदृढ़ बनाया जाए। उन्होंने कहा कि भारत वैश्विक समुदाय का एक जिम्मेदार नागरिक है और वह अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाने को पूरी तरह तैयार है। पीएम ने कोरोना महामारी के दौरान भारत सरकार की तरफ से उठाए गए कदमों की भी जानकारी दी। आम बजट में स्वास्थ्य सेक्टर के आवंटन में अधिकतम वृद्धि की जानकारी भी उन्होंने दी। भारत ने अभी तक 98 देशों को 20 करोड़ वैक्सीन की आपूर्ति कर चुका है। भारत ने कोरोना (Coorna) की जांच के लिए जो तकनीक विकसित की है उसे भी दूसरे देशों को उपलब्ध करा रहा है।


हामारी से घबराने की नहीं, सतर्क रहने की जरूरत : बाइडन

अमेरिका में महामारी से मरने वालों का आंकड़ा 10 लाख तक पहुंचने के बीच राष्ट्रपति जो बाइडन (Joe Biden) कहा कि कोरोना (Corona) महामारी से घबराने की नहीं, बल्कि सतर्क रहने की जरूरत है।

कोरोना (Corona) पर दूसरे वैश्विक वर्चुअल सम्मेलन की मेजबानी करने वाले अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा, ‘एक राष्ट्र के तौर पर हमें इस तरह के दुख से नहीं घबराना चाहिए। इससे उबरने के लिए हमें याद रखना चाहिए कि इस महामारी के खिलाफ सतर्क रहना है और ज्यादा से ज्यादा जिंदगियों को बचाने के लिए वह सबकुछ करना चाहिए जो हम कर सकते हैं।’