Mahant Narendra Giri Suicide

बड़ा खुलासा: महंत गिरि ने सुसाइड लैटर में बताया ….

NEWS Top News

महंत नरेंद्र गिरि की मौत के मामले में अब एक और बड़ा खुलासा हुआ है। उनके कमरे से बरामद Suicide Letter के सामने आने के साथ ही बाघंबरी गद्दी के उत्तराधिकारी का भी नाम सामने आ गया है। गिरि ने स्पष्‍ट शब्दों में अपने उत्तराधिकारी के तौर पर बलवीर गिरि का नाम लिखा है। इसी के साथ उन्होंने ये भी साफ किया है कि उनकी मौत के जिम्मेदार सीधे तौर पर आनंद गिरि, आद्या तिवारी और संतोष तिवारी हैं जो उन्हें मानसिक तौर पर परेशान कर रहे थे। उन्होंने इन तीनों आरोपियों के नाम के साथ लिखा है कि मैं पुलिस अधिकारियों व प्रशासनिक अधिकारियों से प्रार्थना करता हूं कि इन तीनों के साथ कानूनी कार्रवाई की जाए जिससे मेरी आत्मा को शांती मिल सके।

इसके साथ ही महंत Narendra Giri ने लिखा कि प्रिय बलवीर ‌गिरि मठ मंदिर की व्यवस्‍था का प्रयास करना, जिस तरह से मैं किया करता था। साथ ही उन्होंने अपने कुछ शिष्यों का ध्यान रखने की भी बात कही। इसके साथ उन्होंने महंत हरी गोविंद पुरी के लिए उन्होंने लिखा कि आप से निवेदन है कि मढ़ी का महंत बलवीर गिरि को ही बनाना। साथ ही महंत रविन्द्र पुरी जी के लिए उन्होंने लिखा कि आप ने हमेशा साथ दिया है, मेरे मरने के बाद भी मठ की गरिमा को बनाए रखना। महंत नरेंद्र गिरि का लिखा सुसाइड नोट जिसमें उन्होंने आनंद गिरि, आद्या तिवारी और संदीप तिवारी को अपनी मौत का जिम्मेदार बताया है।


आनंद गिरि के कारण ही कर रहा हूं आत्महत्या
महंत Narendra Giri ने लिखा कि आनंद गिरि के कारण आज मैं विचलित हो गया। हरिद्वार से सूयना मिली की आनंद कंप्यूटर के माध्यम से एक लड़की के साथ मेरा फोटो जोड़कर गलत काम कर मेरे को बदनाम करने जा रहा है। आनंद का कहना है कि यदि मैं ने कहा तो आप सफाई देते रहोगे। आगे Narendra Giri लिखा कि मैं जिस सम्मान से जी रहा हूं अगर मेरी बदनामी हो गई तो मैं समाज मैं कैसे रहूंगा, इससे अच्छा मर जाना ठीक रहेगा।

READ MORE:   कोविड वैक्सीन देश के हर एक नागरिक के लिए उपलब्ध होगी, कोई भी नहीं छूटेगा- पीएम मोदी

पहले ही करना चाहता था आत्महत्या
नरेंद्र गिरि ने लिखा कि आज मैं आत्महत्या कर रहा हूं जिसकी पूरी जिम्मेदारी आनंद गिरि, आद्या प्रसाद तिवारी और उसके बेटे संदीप तिवारी की है जिन्हें मैंने पहले ही निकाल दिया है। वैसे मैं पहले ही आत्महत्या करने जा रहा था लेकिन हिम्मत नहीं हुई। अब ये मेरे अंदर विचार आनंद गिरि ने जारी किया जिससे मेरी बदनामी हुई।आज मैं हिम्मत हार गया और आत्महत्या कर रहा हूं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *