लालू के लाल ने मिलाए मुलायम पुत्र के सुर में सुर, Corona Vaccine पर कहा- पहले PM कोरोना वाला टीका लें फिर हम लेंगे

Corona Updates NEWS Top News उत्तर प्रदेश बिहार

कोरोना वैक्सीन पर सियासत लगातार नई-नई शक्ल अख्तियार कर रही है। वैक्सीन अब महामारी रोकने से ज्यादा सियासत चमकाने का फॉर्मूला बनती दिख रही है। इसी कड़ी में राजद (RJD) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) के बड़े बेटे और पूर्व स्वास्थ्य मंत्री तेजप्रताप यादव ने पीएम मोदी पर जुबानी हमला किया है।

कोरोना वैक्सीन पर लालू के बेटे तेजप्रताप यादव ने मुलायम सिंह यादव के बेटे और यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव की तरह ही सुर पकड़ लिया है। तेजप्रताप यादव ने कहा है कि ‘कोरोना की जो वैक्सीन आई है उसे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगवाएं। उसके बाद हम भी इसे लगवा लेंगे।’ यहां सुनिए तेजप्रताप यादव का ये पूरा बयान…

कोरोना वैक्सीन पर बिहार के नेताओं में भी एक दूसरे से बहस जारी है। कांग्रेस विधायक दल के नेता अजीत शर्मा ने कह दिया है कि जिस तरह रूस और अमेरिका के राष्ट्राध्यक्षों ने पहले टीका लिया उसी तरह से भारत में पीएम मोदी भी पहले टीका लें। कांग्रेस विधायक के इस बयान पर राजनीति गरम हो गई है।

कांग्रेस और राजद (RJD) के बयानों पर JDU ने भी तीखा पलटवार किया है। JDU प्रवक्ता राजीव रंजन ने कहा कि कांग्रेस को अगर स्वदेशी पर ऐतराज है तो राहुल गांधी अपने विदेश दौरे पर हैं। ऐसे में वो विदेश से ही वैक्सीन लगवा कर भारत आएं।

इधर कांग्रेस विधायक अजीत शर्मा के इस बयान के आते ही बीजेपी ने भी मोर्चा खोल दिया। करारा हमला करते हुए बीजेपी प्रवक्ता प्रेम रंजन पटेल ने कहा कि कांग्रेस को भारत में बनी वैक्सीन पर नहीं बल्कि पाकिस्तान पर भरोसा है।

इसी बीच RJD प्रवक्ता मृत्युंजय तिवारी ने कांग्रेस विधायक के बयान का समर्थन किया। इस बीच उन्होंने एक कदम आगे बढ़कर बयान दे दिया। RJD के मुताबिक पीएम मोदी के साथ गृहमंत्री अमित शाह भी पहले टीका लें।

समाजवादी पार्टी प्रमुख अखिलेश यादव ने 2 जनवरी को ये कह दिया था कि वह फिलहाल कोरोना की वैक्‍सीन नहीं लगवाएंगे, क्‍योंकि उन्‍हे बीजेपी की वैक्‍सीन पर भरोसा नहीं है। अखिलेश के इस बयान पर वह जमकर ट्रोल हुए। लोगों ने उन्हें खरीखोटी सुनानी शुरू कर दी। अखिलेश का यह बयान उनके ऊपर उल्टा पड़ गया तो वह डैमेज कंट्रोल करने में जुट गए।

ट्रोल होने के बाद अखिलेश ने 3 जनवरी की सुबह एक बार फिर ट्वीट किया। उनका यह ट्वीट डैमेज कंट्रोल करने का प्रयास था। उन्होंने लिखा, ‘कोरोना का टीकाकरण एक संवेदनशील प्रक्रिया है इसीलिए भाजपा सरकार इसे कोई सजावटी-दिखावटी इवेंट न समझे और अग्रिम पुख़्ता इंतज़ामों के बाद ही शुरू करे। यह लोगों के जीवन का विषय है अत: इसमें बाद में सुधार का ख़तरा नहीं उठाया जा सकता है।’ उन्होंने आगे लिखा, ‘गरीबों के टीकाकरण की निश्चित तारीख घोषित हो।’

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *