18 दिसंबर को पीएम मोदी किसानों को करेंगे संबोधित

NEWS Top News

केंद्र सरकार के 3 कृषि कानूनों के खिलाफ पिछले 22 दिनों से Delhi Border पर हजारों किसान जमे हुए हैं। लेकिन अब तक सरकार के साथ गतिरोध जारी है। किसान कृषि कानूनों को रद्द करने की अपनी मांग पर अड़े हुए हैं। इस बीच बड़ी खबर आ रही है। PM Narendra Modi 18 दिसंबर को किसानों को संबोधित करेंगे।


दरअसल PM modi 18 दिसंबर को मध्य प्रदेश में होने वाले किसान सम्मेलनों को संबोधित करेंगे। इसकी जानकारी CMO मध्य प्रदेश ने ट्वीट कर दी है। ट्वीट में बताया गया है कि PM modi वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से संबोधित करेंगे। बताया कि प्रधानमंत्री मोदी दोपहर 2 बजे किसानों को संबोधित करेंगे।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने 18 दिसंबर को राज्य में हो रहे चार स्तरीय किसान कल्याण कार्यक्रम के संबंध में वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से विस्तृत जानकारी दी। मालूम हो राज्य स्तरीय किसान महासम्मेलन रायसेन में होगा जिसमें मुख्यमंत्री श्री चौहान शामिल होंगे।


सीएमओ मध्य प्रदेश ने ट्वीट कर बताया कि 18 दिसंबर को राज्य के 35.50 लाख किसानों के खातों में 1,600 करोड़ रुपये की राशि डालें जाएंगे। CMP ने ट्वीट कर बताया, कुल राहत राशि के एक हिस्से को अभी भेजा जा रहा है, दूसरा हिस्सा भी जल्द ही भेजा जाएगा। CM शिवराज सिंह चौहन ने बताया, इस साल फसलों का जो नुकसान हुआ है उसकी राहत राशि हम किसानों को देंगे।
गौरतलब है कि किसानों के प्रदर्शन के बीच BJP नये कृषि कानूनों के प्रति जन जागरुकता के लिए दिल्ली और मध्यप्रदेश में किसान सम्मेलन, चौपाल कर रही है।

READ MORE:   भारत में कब और कैसे आ सकती है वैक्सीन ? जानिए क्या कहते है एक्सपर्ट ?

केन्द्र की BJP नीत सरकार सितंबर, 2020 में बने इन कानूनों को कृषि क्षेत्र में बड़े सुधार के रूप में पेश कर रही है जो बिचौलियों को खत्म करेंगे और किसानों को देश में कहीं भी अपनी उपज बेचने की अनुमति देंगे। लेकिन दूसरी ओर हजारों की संख्या में किसान इन्हें ‘काला कानून’ बताते हुए इनका विरोध कर रहे हैं, उनका कहना है कि इससे मंडियां खत्म हो जाएंगी, फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य की परिपाटी समाप्त हो जाएगी और किसान कॉरपोरेट्स के हाथों मजबूर हो जाएगा।

करीब दो सप्ताह से राष्टूीय राजधानी दिल्ली की विभिन्न सीमाओं पर हजारों की संख्या में एकत्र किसान तीनों कानूनों को निरस्त करने और फसलों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य की गारंटी की मांग कर रहे हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *