बिहार की सियासत में कौन सी खिचड़ी पक रही है?

REVIEWS देश बिहार राजनीति

बिहार की सियासत में उठापटक का दौर जारी है। जिस तरह की बयानबाजी हो रही है उससे तो ऐसा ही लग रहा है कि बिहार में सियासी संकट उत्पन्न हो गया है। कोई विधानसभा चुनाव की भविष्यवाणी कर रहा है तो कोई नीतीश कुमार को PM पद के लिए प्रमोट करने की बात कह रहा है। और इन बयानबाजियों के बीच सत्तारूढ़ JDU-BJP सरकार पर कोई संकट न होने की बात कह रही है।

पिछले दिनों अरूणाचल प्रदेश में JDU के 6 विधायकों के BJP में शामिल होने के बाद से बिहार का सियासी पारा चढ़ गया है। BJP के इस कदम के बाद से उम्मीद की जा रही थी कि नीतीश कुमार बड़ा फैसला ले सकते हैं। इस बीच इन दोनों दलों के बीच बढ़ी अनबन के बीच RJD भी सक्रिय हो गई है। RJD के कई नेता ऐसा बयान दे चुके हैं कि नीतीश कुमार की कुर्सी खतरे में है। RJD ने तो JDU को महागठबंधन में शामिल होने का न्यौता भी दे दिया है। एक ओर RJD नीतीश कुमार को PM पद के लिए प्रमोट करने की बात कर रही है तो वहीं उन पर निशाना भी साध रही है।

जहां RJD दावा कर रही है कि JDU के कई बड़े नेता उसके पास आ सकते हैं और CM नीतीश कुमार की कुर्सी खतरे में है, वहीं बिहार की CM रह चुकीं राबड़ी देवी ने सीधे नीतीश पर ही दांव चलते हुए कहा कि अगर वे फिर से महागठबंधन में शामिल होना चाहेंगे, तो इस पर पार्टी के नेता और विधायक बैठकर विचार करेंगे।

राबड़ी देवी ने नए साल पर नेताओं और कार्यकर्ताओं से मुलाकात के दौरान BJP व JDU पर जमकर निशाना साधा था। उन्होंने कहा, “पूर्व CM ने कहा कि अब सरकार में नीतीश की नहीं, BJP की चल रही है। उन्होंने हाल के दिनों में हुए अधिकारियों के ट्रांसफर पर कहा कि इसमें भी बीजेपी की ही चली है। राबड़ी देवी ने BJP पर JDU के वोटबैंक में सेंध लगाने का आरोप लगाते हुए कहा, “BJP अंदर ही अंदर अपना काम करती है, जब कर देती है तब सबों को पता चलता है।”

उन्होंने अरुणाचल प्रदेश की घटना का जिक्र करते हुए कहा कि बिहार में भी BJP ऐसा ही कुछ कर सकती है। वहीं राबड़ी देवी के इस अप्रत्यक्ष प्रस्ताव पर बिहार के CM नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार में कोई सियासी संकट नहीं है। सरकार अपना काम बखूबी कर रही है।
उन्होंने कहा कि उनके कामकाज करने का तरीका अलग रहा है। वह शासन के हर पहलू को पहले खुद देखते हैं और फिर जरूरत के मुताबिक योजनाओं को क्रियान्वित करने का काम करते हैं। नए साल की चुनौतियों पर नीतीश कुमार ने कहा है कि वह चुनौतियों के बारे में नहीं सोचते हैं। उनका मकसद जनता की सेवा करना है और जनहित के लिए ही काम करना उनका एजेंडा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *